Sunday, May 30, 2021

Journal Entries Examples in Hindi

Aaj ham apko batayenge how to make journal entry in tally in hindi, agar apko golden rules in accounting (debit & credit rules) pata hai tho apke liye journal entry banan mushqil kaam nahi hai agar apne es topic ko kamjor rakha hua hai tho mai apko btau ki apko DOUBLE ENTRY SYSTEM ko dhyan se pad lena hai. Yaha par mai apko Journal Entries Examples HINDI me btaunga.

Journal Entries Examples in Hindi

  1. Siya ram started business with cash 
  2. Purchased goods for cash
  3. Purchase goods from subhash
  4. Purchased Furniture for cash
  5. Sold goods for cash
  6. Sold goods to mahesh
  7. Paid cash to subhash
  8. Received cash from mahesh
  9. Purchased goods from ravi for cash
  10. Purchased goods from ravi
  11. Sold goods to suresh for cash
  12. Sold goods to suresh 
  13. Bough machinery for cash
  14. Withdrew cash from office for personal use
  15. Paid rent
  16. Paid wages
  17. Paid salary to gopal
  18. Received commission
Dosto ab en sabhi transaction ki entry mai batane jaa raha hu but isse pahle mai apko bata du ki GOLDEN RULES OF ACCOUNTING IN HINDI [Personal, Real, Nominal] ye 3 accounts hai inke rules acche se yaad karle. Agar apko rules yaad nahi hai tho aap entry nahi bana paoge.

  • To - Isko Credit Bhi kahte hai
  • By  - Isko Debit bhi kahte hai 

Journal Entries Examples in Hindi
Journal Entries Examples in Hindi

जनरल एंट्री के नियम [जनरल एंट्री कैसे बनाते हैं]:- Images ko dhyan se dekhe ye most important hai kise Debit karna hai Kise Credit karna hai apko rules bataye gaye hai sabhi images me. Image ke left side me jab aap dekhenge tho vaha payenge ki 

Assets 
Expense
Liability
Income
Capital

जर्नल प्रविष्टियां अभ्यास

Cash A/c 50000

    To Capital A/c 50000
( Cash increase ho raha hai isliye DR hua Capital ek personal account hai or iska rules hai credit the giver isliye capital CR hui hai )

Purchase A/c 20000
    To Cash A/c 20000
( Purchase ek nominal account hai or ye ek EXPENSE hai or exp ko ham DR karte hai isliye isko Dr kiya & jab expense karenge tho uska bhugtan hamne Cash me kiya cash ek real account hai so Credit the giver rules ke accourding isko CR kiya. )

Purchase A/c 12000
    To Subhash 12000
Purchase - Nominal Account - Expense hai [Debit All expense & losses] 
Subhash - Personal Account - Creditor hai [Credit the giver]

Furniture A/c 6000
    To Cash A/c 6000
Furniture - Real Account - Debit What Comes [isliye isko dr kiya]
Cash - Real Account - Business se cash gya hai [Credit the giver - isliye CR kiya]

Cash A/c 13000
    To Sales A/c 13000
Cash - Real Account - Business me Cash aaya hai [Debit what comes in]
Sales - Nominal Account - Income hai ye [Cr All income & Gains]

Mahesh  15000
    To Sales A/c 15000
Mahesh - Personal A/c - [Debit the receiver]
Sales - Nominal A/C - Income hai ye [Cr All income & Gains]

Subhash 8000
    To Cash A/c 8000
Subhash - Personal A/c - [Debit the receiver]
Cash - Real Account - Business se cash gya hai [Credit what goes out- isliye CR kiya]

Cash A/c 10000
    To Mahesh 10000
Cash - Real Account - Business me cash aaya hai [Debit what comes - isliye CR kiya]
Subhash - Personal A/c - [Credit the giver]

Purchase A/c 7500
    To Cash A/c 7500
Purchase - Nominal Account - Expense hai [Debit All expense & losses] 
Cash - Real Account - Business se cash gya hai [Credit what goes out- isliye CR kiya]

Purchase A/c 5000
    To Ravi 5000
Purchase - Nominal Account - Expense hai [Debit All expense & losses] 
Ravi - Personal A/c - [Credit the giver]

Cash A/c 12600
    To Sales A/c12600
Cash - Real Account - Business me cash aaya hai [Debit what comes - isliye CR kiya]
Sales - Nominal A/C - Income hai ye [Cr All income & Gains]

Suresh 7000
    To Sales A/c 7000
Subhash - Personal A/c - [Debit the receiver]
Sales - Nominal A/C - Income hai ye [Cr All income & Gains]

Machinery A/c 8000
    To Cash A/c 8000
Machinery - Real Account - Business me machine aayi hai isliye DR kiya 
To cash - Real a/c - Business se cash gaya hai isliye CR kiya.

Drawing A/c 2500
    To Cash A/c 2500
Drawing - Personal A/c- Drawings business ke owner dwara niji paryog ke liye kiya gaya ek exp hota hai isliye isko DR karte hai.
Cash - Real Account - Business se cash gya hai [Credit what goes out- isliye CR kiya]

Rent A/c 400
    To Cash A/c 400
Rent - Nominal A/c- Ye ek parkar ka expense (EXP) hai isliye isko dr kiya.
Cash - Real Account - Business se cash gya hai [Credit what goes out- isliye CR kiya]

Wages  A/c 450
    To Cash A/c 450
Wages - Nominal A/c - Ye bhi exp hai isliye DR kiya.
Cash - Real Account - Business se cash gya hai [Credit what goes out- isliye CR kiya]

Salary A/c 1200
    To Cash A/c 1200
Salary - Nominal A/c - Ye bhi exp hai isliye dr kiya or cash gaya hai tho Cash ko CR kiya
Cash - Real Account - Business se cash gya hai [Credit what goes out- isliye CR kiya]

Cash A/c 200
    To Commission A/c 200
Cash - Real A/c - Business me cash aaya hai isliye Dr kiya
Commission A/c - Commision ek income hai or ye real a/c hai isliye isko Credit kiya.

Important Tips:-

Perosonal a/c ke saath apko *A/C* word likhne ki jarurat nahi hoti jaisek i hamne kuch entries me jaise - Mahesh, Suresh [En sabhi ke saath A/c nahi lagaya hai.]

Apne es lekh me jana Journal Entries Examples in Hindi

  • जनरल एंट्री के नियम
  • 11th accounts journal entries in hindi
  • journal entries questions
  • journal entries in hindi pdf
  • जनरल एंट्री कैसे बनाते हैं
  • जर्नल प्रविष्टियां अभ्यास
  • जर्नल एंट्री फॉर्मेट
  • journal entries meaning in hindi

Friday, May 28, 2021

Trial Balance क्या है - Ledger से तलपट कैसे बनाते है

Dosto agar apne hamari isse related 1st post - Ledger क्या है (Ledger से Journal में Posting कैसे करे) nahi padi tho sabse pahle ye apko read kar leni hai uske baad hi Trial Balance (तलपट से क्या आशय है) apko samajna hoga. Sabse pahle ham jante hai Trial Balance Kya hai [तलपट का क्या अर्थ है] or iski jarurat hame kyo padti hai.

Trial Balance - ट्रायल बैलेंस (तलपट) Ledger के सभी एकाउंट्स से ज्ञात किये गए Debit Or Credit पक्षो के योग के बाद निकाले गए अंतर की एक सूची है 

Iska matlb ye huaa trial balance hamare dwara banaye gaye sabhi accounts ko summarize karta hai yadhi hamse posting me koi galtiya ho gayi ho tho unhe bhi ham trial balance ke dwara pakad sakte hai.

  • what is trial balance
  • trial balance format
  • trial balance meaning in hindi
  • लेजर बुक क्या है
  • तलपट क्या है
  • रोजनामचा क्या है
  • तलपट बनाने की विधियों को बताइए
  • तलपट से क्या आशय है

Trial Balance क्या है

Trial Balance Ki Aavasyakta 2 karno se hoti hai

  • Kai baar aisa hota hai ki ham apne businees ka addyan karne ke liye sabhi khato ki stithi ek saath dekhna chahte hai yani hamare jitne bhi accounts hai unka jo bhi debit or credit balance hai wo ham ek saath, ek place par dekhna chahte hai "Jisko ham trial balance me dek sakte hai."
  • Jaisa ki ham jante hai Double Entry System ke accourding partyek transaction ki 2 jagah entry ki jati hai ek "Debit side or 2nd Credit Side" Dono sides me likhi jane wale balances ek hi hoti haI
Ab yadhi ham ye janna chahte hai ki hamne double entry system ki help se jo journal tyar kiya hai usme ya ledger me posting ki hai usme koi galti tho nahi hui hai tho iske liye kisi ek sthan par sabhi accounts ke jo bhi balance hai jaise kisi khate ka debit balance hai tho usse debit side me or yadhi kisi khate ka credit balance hai usko credit side me likhenge.

Sabhi accounts ke balances TRIAL BALANCE me likhne ke baad ham Debit Or Credit side ke dono sides ka ADD karte hai or wo ADD Barabar hona chhaiye agar dono sides ka add nahi milta hai tho 2 baate ho sakti hai:-

  1. Hamne Journal me dono sides me ek samaan amount nahi dale.
  2. Journal se ledger me posting karte waqt kahi galti ho gayi hai jise ham dund kar yani recheck karke dur kar sakte hai.

Sabse pahle ham

Transaction karte hai uski help se Journal tyar karte hai fir journal ki help se ham Ledger tyar karte hai fir Ledger ki help se ham Trial balance tyar karte hai

Ledger ka jo debit or credit balance hai wo hame same to same trial balance me likh dena hai

Trial Balance क्या है - Ledger से तलपट कैसे बनाते है
Trial Balance क्या है - Ledger से तलपट कैसे बनाते है

Note:- Apne Journal me jo entries ki hai or fir journal ki help se jo apne ledger me posting ki hai usme apne koi galti nahi karni hai "Agar apne suru me hi entry banate waqt galti kardi hai tho apka trial balance ka amount kabhi nahi match hoga." Tally me apko ab ye trial balance banane ki jrurt nahi hoti hai automatically hi tally apko banakar de deta hai aap jaise jaise entries karte jate hai trial balance banta jata hai Apko pata hona chahiye trial balance kaise banta hai isliye hi hamne apko briefly bataya hai.
Ab jo aap trial balance me jo accounts dek rahe hai jaise ki Capital Account, State bank of india, Ram A/c, Purchase Account, Freigh A/c, Cash A/c, Sales A/c, Commission A/c en sabhi ka Nature apko samajna hoga kis prakarti ke accounts hai ye. 

Hamare jitne bhi accounts hote hai unko hame 4 Series me divide karte hai.

  • Assets
  • Liabilities
  • Expenses
  • Income
Accounts nature ke accourding ham apni trial balancesheet tyar kar lete hai image me dekhe.


Trial Balance me jo accounts apne dekhe hai unko ham unke nature ke accourding divide kar dete hai or usko ham Trial Balancesheet bolte hai.

Accounting Nature ko janne ke liye kon sa khata kis prakarti ka hai iske liye apko Accounting terminology ko dekhna hoga - Accounting Terminology Kya Hai

Tally ke andr hamare pass pahle se hi create group hote hai or hamko unke andar apne accounts ko dalna hota hai jaise ki 

Cash ko ham Cash In Hand Group me dalenge.
Ram, Shyam, Pritam, Neha Ye sabhi hamare dendaar hai tho inko Debtor Group me dalenge
Es tarah se hame sabhi khato ka classification karna hai.

Tally me ham jo bhi transaction karte hai tally hame usi ke accourding Trial Balancesheet bana kar de deta hai.
Es lekh me hamne jana:-
  1. what is trial balance
  2. trial balance format
  3. trial balance meaning in hindi
  4. लेजर बुक क्या है
  5. तलपट क्या है
  6. रोजनामचा क्या है
  7. तलपट बनाने की विधियों को बताइए
  8. तलपट से क्या आशय है

Thursday, May 27, 2021

Ledger क्या है (Ledger से Journal में Posting कैसे करे)

Dosto isse pahle wali post me hamne (Journal kya hai or isme transaction kaise record karte hai) ye samja tha agar apne nahi read ki tho aap ab link pr click karke pad sakte hai. Dosto hamne journal me jitni bhi transaction record ki thi ab uske basis par koi hamse pooche ki kitne rupees hamne receive kiya kitna payment kiya or kitne rupees hamare pass bache hai tho ham kaise isko show karenge.  Isko ham ek format me record krenge or fir party ko show krenge. 
  • ledger in tally in hindi
  • ledger meaning in hindi
  • what is ledger in tally
  • ledger book kaise banaye
  • ledger kaise banaye
  • खाता बही की परिभाषा
  • खाता बही के नियम

खाता-बही (Ledger) क्या है ? - Prepare, Example, Rules

Ledger क्या है - Jab bahut sare accounts ek hi book me rakhe jate hai tho ham unko ledgers kahte hai.

Example:- 
Maan ligiye hamne journal me cash se related jitni bhi transaction record ki hai unko ham chaant lenge fir ham 1-1 entry karke uski posting Cash A/c (Ledger) me kar denge. Isi trah ham journal ki sabhi entries ko classify karke unki posting usse related accounts/ledger me kar denge. Posting karne se pahle mai apko bata du ki Kisi bhi accounts ke 2 sides hote hai DR OR CR Side 

Dr- Isko ham left side me likhte hai
Cr- Isko ham right side me likhte hai.

Isko ham ek Ex. ki help se hamjenge.

  1. Ram se hamne 10000 Rupees udhar liye or usko tukdo me rupees chuka diye. ( Ye hamari transaction hui hai)

Kuch es tarah se Ram ka account banega ab samaj lete hai kis tarah se ham Ledger से Journal में Posting कैसे करे

RAM A/C

Sabse pahle ham iski journal entry banayenge kyoki usse samajne me aashani hogi agar apko journal entries banane me problem aati hai tho aap hamri es post ko read kare Golden Rules Of Accounting In Hindi.
  • Jab hame ram se rupees received huye hai tho hamne Credit side likha hai 
  • Jab hamne ram ko payment ki hai tho hamne Debit Side likha hai 
Cash (Dr) 10000
To Ram A/c (Cr)  10000

Journal Entries Kaise banegi Jane.

Cash ko ham Debit krenge means debit side likhenge (Real A/c ke rules ke accourding Debit what comes in hota hai)
Ram ko ham credit krenge kyoki (Personal account ke rules ke accourding Credit the giver hota hai)

Jaisa ki image me dikhaya gaya hai hamne BY CASH ko Ram A/c ke CR me likha hua hai kyoki Ram A/c tho credit hai Or Cash hame Received ho raha hai isliye ham Cash A/C(DR) Ram A/C (Cr) krenge.

Ab baat aati hai ki ham ram ko payment bhi tho krenge wo bhi tukdo me kis tarah se ham ram ko payment krenge or kiya entry bnegi dekiye.

Ram (DR) xxx
To Cash A/c (CR) xxx

Ram (Debit the receiver "Accourding to personal A/c"
Cash (Credit What Goes Out "Accourding to Real A/c"

Jaisa ki image me dikhaya gaya hai Ram A/c ko hamne debit kiya hai or TO CASH likhkar (Ram account ke Dr side me) hamne ram ko payment kardi hai.

Es tarah se ham each & every entries ko usse related account me same issi tarah se Daal denge But apko Pata hona chahiye ki journal entries kaise banti hai or iske liye apko Practise ki jarurat hogi .

Ledger Se Journal Me Posting Kaise Kare


Example 2 - Aap dek sakte hai kis tarah se ham transsaction ko journal me record karte hai. Yaha par journal me 1 Entry apko dikhayi gayi hai jo ki Capital A/c se related hai.

Cash A/c (dr) - 100000
To Capital A/c (cr) - 100000
Being business started with cash

Es entries me Cash ko Debit kiya hua hai or apko pata hona chahiye ki cash ko kab debit kiya jata hai (Debit what comes - Real a/c) Means business me cash aaya hai tho hamne Cash ko debit kardiya.

Capital ko hamne cr kiya hua hai apko pata hona chahiye (Capital a/c - Personal) a/c hai kyoki capital hame kisi person se received ho rahi hai or (Credit the giver - personal a/c) apko pata hi hai. 

Meaning Of The entry - Business ko 100000 rupess se start kiya gaya hai means 100000 rupees capital ke rup me hame received huye hai.


Es tarah se ham capital account banayenge or es tarah se es account me posting ki jyegi

Business me cash aaya hai or capital bhad gayi hai isliye cash dr | capital cr krenge or aap dek skte hai image me hamne BY CASH (Isko dr) hi kahte hai [BY - Debit] [TO - Credit] ki kiya hua hai kyoki businees me cash aya hai or capital increase hui hai (Or apko pta hona chahiye capital increase hoti hai to Cr. hi hoti hai or agar capital kam hoti hai tho DR) karte hai.

Isi tarah se aapko sabhi entries ki posting unse related account me kar deni hai or fir unka dono sides (Dr or Cr) ka hame Add karna hai or fir unka differences karna hai yehi us account ka balance kahlata hai. [Jis side ka add jayda aata hai usme se dusri side ka add ko - (Substract) kar dete hai]


Aap es image me dekhe Ye (Cash Account) hamne banaya hai or journal se es Account/Ledger me posting ki hai ab Jab hamne dono sides ka total kiya tho Cash acocunt ka (DEBIT) side ka total Credit side se jayda tha 175000 OR CREDIT side ka total 88100 hai ab ham 175000-88100 = 86900 kar denge ab hamra balance Debit side ka 86900 nikla hai. Ham kah skte hai ki hamara cash balance 86900 hai.

Cash A/c (Debit) - Es side ka matlb hai ki hamko cash received hua hai apko pta hona chahiye Debit what comes - Real A/c [Cash ek real account hai]
Cash A/c (Credit) - Credit what goes out "Business se cash gaya hai tho isko ham Credit what goes out - Real A/c" ke Acc Credit krenge.

Journal Se Ledger me posting kaise kare - Important Tips

  • Sabse pahle apko transaction me jo accounts affected ho rahe hai unka pata karna hai.
  • Jo account affected ho rahe hai wo kis type ke hai (REAL, PERSONAL, NOMINAL) ye pata kare.
  • Ab golden rules of accounting ke accourding inko DR, CR kare Journal Me.
  • Fir apko Jo accounts affected ho rahe hai unka Ledger banana hai. Or Fir unme balances likhne hai jaisa ki apko maine uper bata diya hai or images ke saath bataya hai.
Hamne Apko es post me bataya
ledger in tally in hindi, ledger meaning in hindi, what is ledger in tally, ledger book kaise banaye, ledger kaise banaye, खाता बही की परिभाषा, खाता बही के नियम

Monday, May 17, 2021

Journal Kya Hai [जर्नल से क्या आशय है] - Meaning, Example

जर्नल क्या है (Journal Meaning in Hindi) इसमें हम ट्रांसक्शन कैसे रिकॉर्ड करते है जर्नल में लेखा करने के नियम
Journal Kya Hai [जर्नल से क्या आशय है]
Journal

  • एकाउंटिंग क्या है
  • डबल एंट्री सिस्टम क्या है
  • अकाउंट क्या है ये कितने प्रकार के होते है
  • गोल्डन रूल्स ऑफ एकाउंटिंग
इस लेख में हम Manual Accounting के प्रोसेस को समझेंगे  इसमें हम सबसे पहले ट्रांसक्शन से प्रभावित होने वाले खातो को पहचानना उसके बाद ये देखना कहते किस प्रकार के है और कौन सा खाता डेबिट होगा कौन सा अकाउंट क्रेडिट होगा और साथ ही आपको बताएँगे की जर्नल किया है और उसमे हम Entries कैसे करते है.

आइये हम समझते है Manual Accounting दोस्तो मैनुअल अकाउंटिंग को समझना बहुत जरुरी है क्योकी भविष्य में जब हम Tally Software पर काम करेंगे तो हमें Journal को समझने में कुछ दिक्कत नहीं आएगी

मान लीजिये हमने कोई Business शुरू किया है जिसमे कुछ कुछ Transaction हुआ है
  1. 1 April को हम व्यापार शुरू करने के लिए 100000 Cash Capital हम लेके आए।
  2. 5 April को हमने 20000 स्टेट बैंक ऑफ इंडिया में Cash Deposit करके खाता खोला।
  3. 6 April को राम शर्मा को Cash 2000 उधार दिए।
  4. 6 April को व्यापार के लिए 51000 रुपये का माल नकद  खरीदा।
  5. 6 April को हमें जो माल खरीदा था उसका Carriage 100 Cash दिया।
  6. जो माल हमने खरीदा था 7 April को उसे 75000 में Cash बेच दिया।
  7. 9 April को हमने 10000 cash देकर एक मोबाइल खरीदा
  8. 10 April को हमने SBI का 3000 का चेक देकर साइकिल खरीदी
  9. 11 April को हमने 5000 CASH अपने Office का Rent दिया।
  10. 1 May को हमने मोहन को अप्रैल महीने की सेलरी 5000 State Bank Of India (SBI) के Cheque से दी।
  11. 1 May को हमने जो माल किसी व्यक्ति को अशोक ट्रेडर्स से दिलवाया था अशोक ट्रेडर्स से हम उसका Commission 5000 Cheque के थ्रू मिला जो हमने स्टेट बैंक ऑफ इंडिया के खाते में डिपॉजिट किया।
  12. 1 May को हमने सुपर मार्केट से 10000 का माल उधार खरीदा 
हमने 1 अप्रैल से लेके 1 मई तक कुछ ट्रांजैक्शन आपको दिखाए है अब हम एन ट्रांजेक्शन के आधार पर मैनुअल अकाउंटिंग के तरीके को Step by Step समज लेते है।

सबसे पहले हमें लेनदेन की प्रविष्टियां जर्नल में करनी होगी। पर उससे पहले आपको पता होना चाहिए की Journal Kya Hota Hain?

(जर्नल प्राथमिक लेखे की पुस्तक को कहते हैं जिसमे व्यापारी द्वारा अपने सोधे की तिथिवार, क्रमानुसार, डबल एंट्री सिस्टम के सिद्धांत के अनुसार संछिप्त विवरण के साथ विधिवत डेबिट या क्रेडिट पक्ष में एंट्रीज की जाती है)

For Example:-

जब भी हमें Journal में कोई Transaction रिकॉर्ड करना होता है तो उसपर काम करने के कुछ नियम होते हैं - Tally में भी हमें इस नियम के अनुसार काम करना होगा।

जर्नल में लेखा करने के नियम:- 3 Important Tips

  • सबसे पहले आप ट्रांजैक्शन सामने रखकर ये देखे की प्रभावित होने वाले 2 खाते कौन कौन से है । उनका नाम क्या है या उनको किया नाम दे सकते हैं।
  • दोनों अकाउंट किस टाइप के है ये देखना है जैसे- Real A/c, Personal A/c, Nominal A/c
  • दोनो खातो के बारे में Golden Rules Of Accounting क्या कहते हैं (यानी की इनमे से कोन सा अकाउंट Debit होगा को Credit होगा

Example (Entries 1) -

1 April को हम व्यापार शुरू करने के लिए 100000 Cash Capital लेके आए

अब हम ये देखना है की इसमे प्रभावित होने वाले 2 खाते कौन से है । अगर हम ध्यान से देखें तो यह पर Cash या Capital 2 खाते प्रभावित हो रहे हैं।

क्योकी Business में Cash आया है कौन लेके आया है "वो है बिजनेस ओनर" जो की Capital के रूप में लेके आया है तो दूसरा अकाउंट याहा कैपिटल हो जाएगा (इस ट्रांजैक्शन से प्रभाव होने वाले 2 खाते हैं)
  • नकद खाता (Cash A/c)
  • पूंजी खाता (Capital A/c)
अब हम ये देखना है की ये खाते (लेखा) किस प्रकर के है?

Types Of Account (खाते के प्रकार) - खाते 3 प्रकर के होते हैं अब आपको यह चुनना है की नकद या पूंजी किस प्रकार के खाते के अंतर्गत आते हैं।
  1. व्यक्तिगत खाता ( Personal Account)
  2. वास्तविक खाता ( Real Account)
  3. नाममात्र का खाता ( Nominal Account)
Cash A/c - ये एक रियल अकाउंट है क्योकी जब आप रियल अकाउंट के बारे में अच्छे से जानेंगे तो आपको पता लग जाएगा कि कैश एक रियल अकाउंट होता है और इसका  डेबिट बैलेंस होता है।

Capital A/c - ये एक पर्सनल अकाउंट है क्योकी जब आप पर्सनल अकाउंट को अच्छे से जानेंगे तो आपको पता लग जाएगा कि किस तरह से कैपिटल एक पर्सनल अकाउंट है
आपकी सुविधा के लिए हम आपको अकाउंट देंगे जिस से आपको पता लग जाएगा कि प्रकर का है ये ढूंढ़ने में आपको आसानी होगी
अब तीसरा सवाल है? - कौन सा अकाउंट डेबिट होगा और कौन सा क्रेडिट 

अगर हम गोल्डन रूल्स ऑफ़ अकाउंट के आधार से देखे तो:-

Personal A/c - Debit the Receiver
                        Credit The Giver

कैपिटल को हम क्रेडिट करेंगे क्योकी देने वाले को हैम क्रेडिट करते हैं जो बिजनेस में कैपिटल लेके आया है इसलिए हम उसे नाम से नहीं करेंगे उसे कैपिटल को ही क्रेडिट करेंगे।

Real A/c - Debit What Comes In
                  Credit Whats Goes Out

Cash A/c - इसे हम डेबिट करेंगे क्योकी कैश व्यापार में आया है या जो चीज व्यापार में आया है उसे हम डेबिट करेंगे।

अब हम आपको बता दिया है किस टाइप से एंट्रीज बनेंगे को अकाउंट डेबिट होगा को क्रेडिट अकाउंट किस प्रकर के है।

अब जर्नल में हम किस तरह से इसे रिकॉर्ड करेंगे उसका प्रारूप आपके सामने है

Journal

journal meaning and example
journal meaning and example

Sunday, May 9, 2021

Online GSTR3B Return File Kaise Kare [GSTR3B कैसे फाइल करें]

आज हम आपको GSTR3B के बारे में डिटेल से बताएंगे (GSTR-3B ऑनलाइन रिटर्न कैसे भरें) Gstr-3b Online Return Filing करने की जरूरत हमें तब पड़ती है जब हमारे Sales Of Goods/Services & Purchase Of Goods/Services के Invoices(Bills) बहुत कम होते हैं अगर हमारे Invoices ज्यादा है तो हम इसको Tally Software या फिर अन्य सॉफ्टवेयर (Clear Tax) की मदद से या फिर जीएसटीआर 3b को Gst offline Tool की मदद से Fillup कर सकते हैं gstr-3b में कौन से टेबल में कौन सा डाटा fillup किया जाता है यह जानना हमारे लिए बहुत जरूरी है चाहे तो हम gstr-3b Online फिल करें या फिर Offline filled करें | gstr-3b में हम Sales & Purchase से संबंधित Tax का विवरण सरकार को देते हैं 

Online GSTR3B Return File Kaise Kare

याद रहे जैसे जैसे आप Tables में Data को फील करते जाएंगे आपको Save gstr-3b करते जाना है 
Online GSTR3B Return File Kaise Kare
Online GSTR3B Return File Kaise Kare

दोस्तों अक्सर नॉर्मल टैक्सपेयर को gst3b को file करने में दिक्कत का सामना करना पड़ता है आज हम जो Normal Taxpayers हैं उनको बताएंगे कि किस कॉलम में उन्हें कौन सा Data Filled करना पड़ेगा डिटेल में जाने gstr-3b के बारे में किस कॉलम में कौन सा data भरा जाएगा 

आज मैं आपको बताऊंगा gstr-3b को भरते समय और गलतियों से बचने के लिए है gstr-3b में किस कॉलम में कौन सा डाटा आपको भरना है gstr-3b में हमें sales और purchse की जानकारी देनी होती है एक Current Financial Year में किस Period(Months) में हमने किस व्यापारी को कितना माल बेचा है और उससे कितना टैक्स हमने वसूल किया है और किस व्यापारी से माल हमने खरीदा है और उसको कितना टैक्स का भुगतान किया है GSTR-3B में हमें इन सभी के टैक्स का ब्यौरा एक साथ देना होता है 

GSTR3B कैसे फाइल करें


GSTR-3B Return को भरने के लिए सबसे पहले आपको अपनी ID से GST PORTAL पर Login होना पड़ेगा फिर आपको Service इस पर जाना है Service इसके बाद Return Dashboard पर क्लिक करिए Return Dashboard पर क्लिक करने के बाद File Return पर क्लिक करना है फाइल रिटर्न पर क्लिक करने के बाद Financial Year को सेलेक्ट करें फिर जिस Month का आपको रिटर्न भरना है वह Select करें फिर Search इस पर क्लिक करें

अब आपको gstr-3b का कॉलम नजर आएगा वहां पर आपको दो ऑप्शन देखने को मिलेंगे Prepare Online | Prepare Offline हम आपको Prepare Online से GSTR-3b रिटर्न भरने के बारे में बता रहे हैं इसलिए आपको gstr-3b Prepare Online पर क्लिक करना है

सर्च इस पर क्लिक करने के बाद वहां पर आपको यह पूछा जाएगा कि आपको Nil Return फाइल करनी है या नहीं अगर आपको करनी है (nil return filing) तो Yes पर क्लिक करें अन्यथा No पर क्लिक करें 

Do You File Nil Return के नीचे Notes: दिया हुआ है इसे आप जरूर पढ़ ले
  • Nil return (Yes, No <Next <Close)

Nil Return पर No करने के बाद आपके सामने एक पॉपअप विंडो शो होगी उसको आप को क्लोज कर देना है अगर आप वहां पर दी हुई इंफॉर्मेशन पढ़ना चाहते हैं तो आप पढ़ सकते हैं

अब आपके सामने 6 Tables Show होंगी Online Gstr3b File Karte Samay Kis Column Me Kon Sa Data Fill Kare

जीएसटीआर 3b में हमें Sales Summery में देनी होती है और Bill Wise Details हम gstr-1 में देते हैं

  • 3.1 Tax On Outward & Reverse Charge Inwards Supply 
  • 3.2 Inter-State Supply
  • 4 Eligible ITC
  • 5 Exempt,Nil,Non Gst Inwards Supply 
  • 5.1 Interest & Late Fees
  • 6.2 TDS/TCS Credit

3.1 Tax On Outward & Reverse Charge Inwards Supply 


Outward Taxable Supplies (Other Than Zero Rated, Nil & Exempted) - इसके अंतर्गत एक करंट पीरियड में आपने जितनी भी Taxable Supplies या तो अपने ही राज्य के अंदर (Intra-state Supply) की हो या फिर दूसरे राज्य (Inter-State Supply) में की हो इस कॉलम के अंतर्गत दिखानी पड़ेगी | टैक्सेबल सप्लाई वह होती है जिस पर आपने Goods Sales करके ग्राहक से टैक्स वसूल किया है इसके अंतर्गत Zero Rated, Nil Rated, Exempted सप्लाई कवर नहीं की जाएंगी इसमें केवल और केवल आपको Taxable Supplies Intra-State Or Inter-state की डिटेल डालनी है 

Outward Taxable Supplies (Zero Rated) - अगर आपने एक मुल्क से दूसरे मुल्क में कोई सप्लाई की है या फिर कोई Export किया है तो उसे हम Zero Rated Supplies बोलते हैं दूसरे शब्दो में, यहां केवल उन्हीं आपूर्ति को शामिल करना है हैं जिन पर जीएसटी दर 0% है। शून्य-रेटेड आपूर्ति SEZ(special economic zone) को किए गए Export या Supplies हैं।

Other Outwards Supplies (Nil Rated, Exempted) - इसमें आपको वह सप्लाई दिखानी है जिस पर टैक्स की दर निल है या फिर वह Exempted है मान लीजिए, आपने कोई goods,Services सेल की है तो आप कंजूमर से टैक्स वसूल नहीं कर सकते क्योंकि आपने ऐसे गुड्स या Service सेल की है जिस पर टैक्स नहीं लगता है इसलिए इसमें हमको केवल टैक्सेबल वैल्यू ही डालनी होती है इसमें टैक्स नहीं लगता है

  • Nil Rated - निल रेटेड सप्लाई वह होती है जिस पर टैक्स की रेट 0% डिक्लेयर्ड की हुई है जैसे:- नमक
  • Exempted - एक्सेम्पटेड सप्लाई एक प्रकार की टैक्सेबल सप्लाई होती है इस पर हम जीएसटी चार्ज नहीं कर सकते परंतु यह जीएसटी के दायरे में आती है जैसे कि Fresh Milk.
दोस्तों हमें याद रखना चाहिए Nil Rated & Exempted Supplies दोनों ही टैक्सेबल सप्लाई है परंतु हम इस पर जीएसटी चार्ज नहीं कर सकते और न ही हम आईटीसी क्लेम कर सकते

Inward Supplies (Liable To Reverse Charge) - इनवार्ड सप्लाई (RCM- Reverse Charge Machenism) जैसा कि नाम से clear होता है Inward Supply Means - कुछ purchase किया है आपने | और वह purchase आपने Unregistered Person से किया गया है और जो अपने गुड्स परचेस की है वो टैक्सेबल है याकि की उस पर GST लग रहा है Suppose, हमने कोई ऐसी Taxable Goods अनरजिस्टर्ड पर्सन से खरीदी है जिस पर जीएसटी लगता है तो हम उस पर्सन को टैक्स तो देंगे नहीं क्योंकि हमने Unregistered Person से माल खरीदा है और ना ही वह बंदा हमसे टैक्स वसूल कर सकता इसलिए Reverse Charge Inward Supply में हमें अपनी पॉकेट से सरकार को उस वस्तु के Against GST देना पड़ता है और इस तरह Reverse Charge Mechanism में हम ITC(Input Tax Credit) भी क्लेम कर सकते है 

Non Gst Supplies - Non Gst Supplies में ऐसी Goods आती है जो GST law से बाहर है जैसे कि Petrol or Desial.

Total Taxable Value - टैक्सेबल वैल्यू वह होती है जिस पर आप टैक्स कैलकुलेट करते हैं मान लीजिए मैंने 10000 की कोई सप्लाई की है और उस पर  5% GST चार्ज होता है तो 10000 का 5 % ₹500 हुआ तो हमारी Invoice Value तो 10500  आएगी और जिस वैल्यू पर हमने टेक्स्ट कैलकुलेट किया है 10,000 तो वह हमारी टैक्सेबल वैल्यू कहलाएगी

Integrated tax - अगर आपने कोई Inter-State Supply की है मतलब अपने राज्य से बाहर सप्लाई की है और बाहर के राज्य से अपने जो टैक्स वसूल किया है वह आपको इंटीग्रेटेड टैक्स वाले कॉलम में डालना है

Central tax & State tax - अगर आपने Intra-State Supply मतलब कि अपने ही राज्य के अंदर सप्लाई की है तो जो टैक्स आपने वसूल किया है  "CGST & SGST" इसको हमें इन दो कॉलम में डालना है

Cess - Blank Rahne Do

3.2 Inter-State Supply


इस टेबल के अंतर्गत आपको वह Sales Details डालनी है जो आपने अपने राज्य के बाहर Unregistered Person को या फिर Composition Taxable Person को या फिर UIN Holder को की है 

आपको पता होना चाहिए जब हम दूसरे राज्य में सेल करते हैं तो हम IGST वसूल करते हैं इसलिए इस कॉलम में हमें केवल IGST Column देखने को मिलेगा

4 Eligible ITC


एलिजिबल आईटीसी यह वाला कॉलम मोस्ट इंपोर्टेंट है ITC  क्या होता है इसका मतलब है ITC (Input Tax Credit) मतलब कि इनपुट पे जो टैक्स हमें मिला है उसका क्रेडिट हम ले लेते हैं 

For Ex. मान लीजिए आपने sales की तो आपने टैक्स वसूल किया इसको हम Output Tax बोलते है और जब आप माल purchase कर रहे हो तो आप टैक्स दे रहे हो इसको हम Input Tax बोलते है

5 Exempt,Nil,Non Gst Inwards Supply 


अगर अपने कोई ऐसी Purchse की है जो की Nil, Exempted, Non-Gst Inward Supply है तो वो डिटेल्स आपको टेबल 5 के अंदर डालनी है चाहे तो अपने ये परचेस अपने ही राज्य से की हो या फिर दूसरे राज्य से 

5.1 Interest & Late Fees

ये कॉलम आपका ऑटोफिल रहेगा

Read More:


Friday, March 12, 2021

Interim Reporting (M.com - 1st Sem) - 3rd unit

Interim reporting is the reporting of the financial results of any period that is shorter than a fiscal year. Interim reporting is usually required of any company that is publicly held, and it typically involves the issuance of three quarterly financial statements each year. “Timely and reliable interim financial reporting improves the ability of investors, creditors and others to understand an enterprise's capacity to generate earnings and cash flows, its financial condition and liquidity.”. An interim financial report is a complete or condensed set of financial statements for a period shorter than a financial year. ... In some cases, a statement of financial position at the beginning of the prior period is also required. An interim audit involves preliminary audit work that is conducted prior to the fiscal year-end of a client. The interim audit tasks are conducted in order to compress the period needed to complete the final audit. Doing so benefits the client, which can issue its audited financial statements sooner.

Interim statements are financial reports produced by firms covering a period of less than one year. The goal is to keep shareholders and analysts more up-to-date and in regular communication with corporate management, and to alert the public to material changes to the company in a timely fashion.

interim-reporting
interim reporting

अंतरिम रिपोर्टिंग किसी भी वित्तीय वर्ष की तुलना में किसी भी अवधि के वित्तीय परिणामों की रिपोर्टिंग है। अंतरिम रिपोर्टिंग आमतौर पर किसी भी कंपनी की आवश्यकता होती है जो सार्वजनिक रूप से आयोजित की जाती है, और इसमें आमतौर पर प्रत्येक वर्ष तीन तिमाही वित्तीय विवरणों को जारी करना शामिल होता है। "समय पर और विश्वसनीय अंतरिम वित्तीय रिपोर्टिंग निवेशकों, लेनदारों और अन्य लोगों की कमाई और नकदी प्रवाह, इसकी वित्तीय स्थिति और तरलता उत्पन्न करने के लिए उद्यम की क्षमता को समझने में सुधार करती है।". एक अंतरिम वित्तीय रिपोर्ट एक वित्तीय वर्ष की तुलना में कम अवधि के लिए वित्तीय विवरणों का एक पूर्ण या गाढ़ा सेट है। ... कुछ मामलों में, पूर्व अवधि की शुरुआत में वित्तीय स्थिति का एक बयान भी आवश्यक है। एक अंतरिम ऑडिट में प्रारंभिक ऑडिट कार्य शामिल होता है जो क्लाइंट के वित्तीय वर्ष के अंत से पहले किया जाता है। अंतरिम ऑडिट कार्यों को अंतिम ऑडिट को पूरा करने के लिए आवश्यक अवधि को संपीड़ित करने के लिए किया जाता है। ऐसा करने से ग्राहक को लाभ होता है, जो जल्द ही अपने लेखा परीक्षित वित्तीय विवरण जारी कर सकता है।

अंतरिम बयान एक वर्ष से कम की अवधि को कवर करने वाली फर्मों द्वारा उत्पादित वित्तीय रिपोर्ट हैं। लक्ष्य शेयरधारकों और विश्लेषकों को अधिक-से-अधिक और कॉर्पोरेट प्रबंधन के साथ नियमित रूप से संचार में रखना है, और जनता को समय पर फैशन में कंपनी परिवर्तन के लिए सचेत करना है।

KEY TAKEAWAYS

  1. Interim statements are financial reports produced by firms covering a period of less than one year.
  2. The goal is to keep shareholders and analysts more up-to-date and in regular communication with corporate management, and to alert the public to material changes to the company in a timely fashion.
  3. Quarterly reports are commonly used by companies, and may sometimes be mandated by the SEC.

Most imp key for exam purpose:- 

  1. अंतरिम बयान एक वर्ष से कम की अवधि को कवर करने वाली फर्मों द्वारा उत्पादित वित्तीय रिपोर्ट हैं।
  2. लक्ष्य शेयरधारकों और विश्लेषकों को अधिक से अधिक अद्यतित और नियमित रूप से कॉर्पोरेट प्रबंधन के साथ संचार में रखना है, और कंपनी को समय पर फैशन में बदलाव के लिए जनता को सचेत करना है।
  3. त्रैमासिक रिपोर्ट आमतौर पर कंपनियों द्वारा उपयोग की जाती हैं, और कभी-कभी एसईसी द्वारा इसे अनिवार्य किया जा सकता है।

These statements include:

  1. Balance sheet. As of the end of the current interim period and the immediately preceding fiscal year.
  2. Income statement. For the current interim period, and the fiscal year-to-date, and the corresponding periods for the immediately preceding fiscal year.
  3. Statement of cash flows. For the current fiscal year-to-date period, and the corresponding period for the immediately preceding fiscal year.

इन बयानों में शामिल हैं: 

  1. तुलन पत्र। वर्तमान अंतरिम अवधि के अंत और तुरंत वित्तीय वर्ष से पहले।
  2. आय विवरण। वर्तमान अंतरिम अवधि के लिए, और वित्तीय वर्ष-दर-तारीख, और तुरंत वित्तीय वर्ष से पहले की अवधि।
  3. नकदी प्रवाह का बयान। वर्तमान वित्तीय वर्ष-से-अवधि की अवधि, और तुरंत पूर्ववर्ती वित्तीय वर्ष के लिए इसी अवधि।

The precise format and contents of interim reports issued by publicly-held companies are defined by the Securities and Exchange Commission. These reports are reviewed by a company's auditors, rather than undergoing a complete audit (which would be impractical, given the rapidity with which these reports are released to the public).

सार्वजनिक रूप से आयोजित कंपनियों द्वारा जारी अंतरिम रिपोर्टों के सटीक प्रारूप और सामग्री को प्रतिभूति और विनिमय आयोग द्वारा परिभाषित किया गया है। इन रिपोर्टों की समीक्षा एक कंपनी के लेखा परीक्षकों द्वारा की जाती है, बजाय एक पूर्ण लेखा परीक्षा के (जो अव्यवहारिक होगा, जिसके साथ बलात्कार होता है, जिसके साथ ये रिपोर्ट जनता के लिए जारी की जाती हैं)।

Objective of interim reporting:- 

Interim statements are financial reports produced by firms covering a period of less than one year. The goal is to keep shareholders and analysts more up-to-date and in regular communication with corporate management, and to alert the public to material changes to the company in a timely fashion.

अंतरिम बयान एक वर्ष से कम की अवधि को कवर करने वाली फर्मों द्वारा उत्पादित वित्तीय रिपोर्ट हैं। लक्ष्य शेयरधारकों और विश्लेषकों को अधिक-से-अधिक और कॉर्पोरेट प्रबंधन के साथ नियमित रूप से संचार में रखना है, और जनता को समय पर फैशन में कंपनी परिवर्तन के लिए सचेत करना है।

Objectives of Interim Reporting:

FASB’s discussion memorandum analysis of issue, related to interim financial accounting and reporting in 1978 has identified five possible objectives as under:

  1. (1) To estimate annual earnings.
  2. (2) To make projection.
  3. (3) To identify turning points.
  4. (4) To evaluate the management performance.
  5. (5) To supplement the annual report.

अंतरिम रिपोर्टिंग के उद्देश्य:

एफएएसबी की चर्चा ज्ञापन के विश्लेषण, 1978 में अंतरिम वित्तीय लेखांकन और रिपोर्टिंग से संबंधित, निम्न पांच संभावित उद्देश्यों की पहचान की गई है:

  1. (१) वार्षिक आय का अनुमान लगाना।
  2. (२) प्रक्षेपण करना।
  3. (३) Naye Sankheto की पहचान करना।
  4. (4) प्रबंधन प्रदर्शन का मूल्यांकन करने के लिए।
  5. (5) वार्षिक रिपोर्ट के पूरक के लिए।

The basic purpose of periodic reporting is to follow up with all daily, weekly, monthly, quarterly, half yearly and yearly business activities in a summarized form in order to judge the clear position of the firm and on the basis of that the management of the firm is able to draw a valid conclusion. What is Interim Reporting? Interim reporting is the reporting of the financial results of any period that is shorter than a fiscal year. Interim reporting is usually required of any company that is publicly held, and it typically involves the issuance of three quarterly financial statements each year.

समय-समय पर रिपोर्टिंग का मूल उद्देश्य सभी दैनिक, साप्ताहिक, मासिक, त्रैमासिक, अर्धवार्षिक और वार्षिक व्यावसायिक गतिविधियों का एक संक्षिप्त रूप में पालन करना है ताकि फर्म की स्पष्ट स्थिति का न्याय किया जा सके और उसके आधार पर प्रबंधन किया जा सके। फर्म एक वैध निष्कर्ष निकालने में सक्षम है अंतरिम रिपोर्टिंग क्या है? अंतरिम रिपोर्टिंग किसी भी वित्तीय वर्ष की तुलना में किसी भी अवधि के वित्तीय परिणामों की रिपोर्टिंग है। अंतरिम रिपोर्टिंग आमतौर पर किसी भी कंपनी की आवश्यकता होती है जो सार्वजनिक रूप से आयोजित की जाती है, और इसमें आमतौर पर प्रत्येक वर्ष तीन तिमाही वित्तीय विवरणों को जारी करना शामिल होता है।

Here is the benefit of interim audit:

  1. It let auditor get a better understanding of the client's business, related risks, and nature of accounting records.
  2. Reduce Audit works.
  3. Increase audit revenue.
  4. Audit's clients sometimes required to publish their interim financial statements.

यहाँ अंतरिम लेखापरीक्षा का लाभ दिया गया है:

  1. इसने लेखा परीक्षक को ग्राहक के व्यवसाय, संबंधित जोखिमों और लेखांकन रिकॉर्ड की प्रकृति की बेहतर समझ दी।
  2. ऑडिट कार्यों को कम करें।
  3. ऑडिट राजस्व बढ़ाएं।
  4. ऑडिट के ग्राहकों को कभी-कभी अपने अंतरिम वित्तीय विवरणों को प्रकाशित करने की आवश्यकता होती है।

Difficulties in Interim Reporting:

To develop interim reports, companies have to rely more upon estimates. Basically every company has two problems i.e. accounting and conceptual problems involved in interim reporting.

(1) Problems of Inventories:

(2) Difficulty in Matching:

(3) Extent of Disclosure Problem:

(b) Conceptual Problems:

(c) Unique Problems:

  1. (i) Expenses subject to yearend adjustment
  2. (ii) Income tax
  3. (iii) Extraordinary items
  4. (iv) Earning per share
  5. (v) Advertisement and similar expenses.
  6. (vi) Seasonality.

अंतरिम रिपोर्टिंग में कठिनाइयाँ:

अंतरिम रिपोर्ट विकसित करने के लिए, कंपनियों को अनुमानों पर अधिक निर्भर रहना पड़ता है। मूल रूप से हर कंपनी में दो समस्याएं होती हैं यानी अंतरिम रिपोर्टिंग में लेखांकन और वैचारिक समस्याएं।

(1) Problems of Inventories:

In every business organisation inventories are main elements in the generation of income. Interim reporting concentrates on providing periodic interim reports on fix interval during an accounting period say half yearly, quarterly or monthly. The basic problem which every reporting entity faces is determination of quantity of inventory, valuation of inventory and adjustments of valuation in every report. Inventory problem becomes more complex for companies following LIFO method. Interim report may be a problem if the inventory level at the end of reporting period is below than in the beginning of the year.

(1) इन्वेंटरी की समस्याएं:

प्रत्येक व्यवसाय संगठन में आविष्कार आय के उत्पादन में मुख्य तत्व हैं। अंतरिम रिपोर्टिंग एक वार्षिक अवधि के दौरान फिक्स अंतराल पर आवधिक अंतरिम रिपोर्ट प्रदान करने पर ध्यान केंद्रित करती है जो छमाही, त्रैमासिक या मासिक कहती है। मूल समस्या जो प्रत्येक रिपोर्टिंग इकाई का सामना करती है वह इन्वेंट्री की मात्रा, इन्वेंट्री का मूल्यांकन और हर रिपोर्ट में मूल्यांकन के समायोजन का निर्धारण करती है। LIFO विधि के बाद कंपनियों के लिए इन्वेंटरी समस्या अधिक जटिल हो जाती है। अंतरिम रिपोर्ट एक समस्या हो सकती है यदि रिपोर्टिंग अवधि के अंत में इन्वेंट्री स्तर वर्ष की शुरुआत की तुलना में नीचे है।

(2) Difficulty in Matching:

Business activities are not similar and uniform throughout the accounting period. Because of various time lag relationships between costs and sales difficulties are created in matching costs and revenues. Interim accruals for various expenses that normally require companies to rely heavily on estimates, the problem is also multiplied due to the tendency of investors to project a full year’s results on the basis of data given in interim reports. Seasonal business also raises a problem about matching of revenues and expenses during the accounting period.

(2) मिलान में कठिनाई:

व्यावसायिक गतिविधियाँ पूरे लेखा अवधि में समान और समान नहीं होती हैं। विभिन्न समय की वजह से लागत और बिक्री कठिनाइयों के बीच संबंध मिलान लागत और राजस्व में पैदा होते हैं। अंतरिम रूप से विभिन्न खर्चों के लिए accruals, जिनमें आम तौर पर कंपनियों को अनुमानों पर बहुत अधिक भरोसा करने की आवश्यकता होती है, अंतरिम रिपोर्टों में दिए गए आंकड़ों के आधार पर निवेशकों के पूरे साल के परिणामों को पेश करने की प्रवृत्ति के कारण समस्या भी कई गुना अधिक है। लेखांकन अवधि के दौरान मौसमी व्यवसाय राजस्व और खर्चों के मिलान के बारे में एक समस्या पैदा करता है।

(3) Extent of Disclosure Problem:

In the absence of any regulatory frame work for interim reports, the interim disclosures practices vary from organisation to organisation. There is a problem of deciding the quantity and extent of disclosure while doing interim reporting the reason being disclosure requirements applicable to annual financial reporting are not applicable to interim reporting.

(3) प्रकटीकरण समस्या का विस्तार:

अंतरिम रिपोर्टों के लिए किसी भी नियामक फ्रेम कार्य की अनुपस्थिति में, अंतरिम प्रकटीकरण प्रथाओं के संगठन से संगठन में भिन्न होते हैं। अंतरिम रिपोर्टिंग करते समय अंतर की रिपोर्टिंग की मात्रा और सीमा तय करने की समस्या है, वार्षिक वित्तीय रिपोर्टिंग के लिए प्रकटीकरण आवश्यकताओं पर लागू होना अंतरिम रिपोर्टिंग पर लागू नहीं होता है।

(b) Conceptual Problems:

The basic conceptual problem is related with period, i.e. whether the interim period is part of a long period or is a period in itself. This problem further leads to have two opposing viewpoints i.e. the integral approach and discrete approach.

(बी) वैचारिक समस्याएं:

बुनियादी वैचारिक समस्या अवधि से संबंधित है, अर्थात् क्या अंतरिम अवधि लंबी अवधि का हिस्सा है या अपने आप में एक अवधि है। यह समस्या आगे चलकर दो विरोधी दृष्टिकोण बनाती है अर्थात् अभिन्न दृष्टिकोण और असतत दृष्टिकोण।

Proponents of integral approach argue that the primary purpose of interim reporting is to aid users in forecasting the future results. Whereas critics of this approach suggest that essential judgment and allocations can sometimes be used artificially to cool over and disguise significant operating changes. Proponents of discrete approach on the other hand, give arguments that users are interested in a report of actual realization of the interim period itself.

अभिन्न दृष्टिकोण के समर्थकों का तर्क है कि अंतरिम रिपोर्टिंग का प्राथमिक उद्देश्य उपयोगकर्ताओं को भविष्य के परिणामों का पूर्वानुमान लगाने में सहायता करना है। जबकि इस दृष्टिकोण के आलोचकों का सुझाव है कि आवश्यक निर्णय और आवंटन कभी-कभी कृत्रिम रूप से उपयोग किए जा सकते हैं और महत्वपूर्ण परिचालन परिवर्तनों को शांत कर सकते हैं। दूसरी ओर असतत दृष्टिकोण के समर्थक, तर्क देते हैं कि उपयोगकर्ता अंतरिम अवधि के वास्तविक प्राप्ति की रिपोर्ट में रुचि रखते हैं।

(c) Unique Problems:

Some typical problems also raised in connection with unique items as under:

(i) Expenses subject to yearend adjustment

(ii) Income tax

(iii) Extraordinary items

(iv) Earning per share

(v) Advertisement and similar expenses.

(vi) Seasonality.

(ग) अद्वितीय समस्याएं:

कुछ विशिष्ट समस्याओं को अद्वितीय वस्तुओं के संबंध में भी उठाया गया है:

(i) व्यय समायोजन के अधीन व्यय

(ii) आयकर

(iii) असाधारण वस्तुएँ

(iv) प्रति शेयर कमाई

(v) विज्ञापन और समान खर्च।

(vi) ऋतुकाल।

Guidelines for Improving Interim Reports:

The primary purposes of interim reports are to help the users in prediction of results for the current year. Although interim reporting involves important accounting problems, its need and significance is now being felt by the investors and other users for making sound economic decisions.

अंतरिम रिपोर्ट में सुधार के लिए दिशानिर्देश:

अंतरिम रिपोर्टों के प्राथमिक उद्देश्य चालू वर्ष के लिए परिणामों की भविष्यवाणी में उपयोगकर्ताओं की मदद करना है। हालांकि अंतरिम रिपोर्टिंग में महत्वपूर्ण लेखांकन समस्याएं शामिल हैं, इसकी आवश्यकता और महत्व अब निवेशकों और अन्य उपयोगकर्ताओं द्वारा ध्वनि आर्थिक निर्णय लेने के लिए महसूस किया जा रहा है।

Backer has given the following suggestions to enhance the usefulness of interim financial reports: बैकर ने अंतरिम वित्तीय रिपोर्टों की उपयोगिता बढ़ाने के लिए निम्नलिखित सुझाव दिए हैं:

Guidelines for Improving Interim Reports:

The primary purposes of interim reports are to help the users in prediction of results for the current year. Although interim reporting involves important accounting problems, its need and significance is now being felt by the investors and other users for making sound economic decisions.

Edward, Dominiak, and Hedges have proposed following criteria and guidelines for interim reporting:

1. Reports on interim period activities should be designed to materially assist important individual users or user groups to achieve major objectives related to investment and credit decisions.

2. Interim reports for general distribution should be directed towards meeting the needs of both current and prospective shareholders and important representatives of these groups.

3. Interim reports should be designed so as to reduce the amplitude of those exchange price fluctuations that result from misinformation. Misinformation is used here to include failure to communicate and partial communication.

4. Substantial disaggregation of data should be reflected in reports for interim periods. Disaggregation should emphasise disclosure of information about the nature of the events which underlie the reported data.

5. Interim reports should incorporate data developed with an emphasis on forecast-ability. Unusual events, the effect of which is material in size, should be separately disclosed in interim reports. Materiality should be based on the results of interim period activities. The accounting for and reporting of similar events in interim statements should be consistent for a given entity over time. Interim reports, should, in substance, articulate with annual reports.

6. Timeliness should be emphasised in the reporting of information about interim period activities. Financial reports should be promptly distributed by publicly owned business firms to external users at least four times during each fiscal year, and usually following the end of each of three months period.

अंतरिम रिपोर्ट में सुधार के लिए दिशानिर्देश:

अंतरिम रिपोर्टों के प्राथमिक उद्देश्य चालू वर्ष के लिए परिणामों की भविष्यवाणी में उपयोगकर्ताओं की मदद करना है। हालांकि अंतरिम रिपोर्टिंग में महत्वपूर्ण लेखांकन समस्याएं शामिल हैं, इसकी आवश्यकता और महत्व अब निवेशकों और अन्य उपयोगकर्ताओं द्वारा ध्वनि आर्थिक निर्णय लेने के लिए महसूस किया जा रहा है।

अंतरिम रिपोर्टिंग के लिए एडवर्ड, डोमिनीक और हेजेज ने निम्नलिखित मानदंड और दिशानिर्देश प्रस्तावित किए हैं:

1. अंतरिम अवधि की गतिविधियों पर रिपोर्ट को महत्वपूर्ण व्यक्तिगत उपयोगकर्ताओं या उपयोगकर्ता समूहों को निवेश और क्रेडिट निर्णयों से संबंधित प्रमुख उद्देश्यों को प्राप्त करने में मदद करने के लिए डिज़ाइन किया जाना चाहिए।

2. सामान्य वितरण के लिए अंतरिम रिपोर्ट को वर्तमान और भावी शेयरधारकों और इन समूहों के महत्वपूर्ण प्रतिनिधियों दोनों की जरूरतों को पूरा करने की दिशा में निर्देशित किया जाना चाहिए।

3. अंतरिम रिपोर्टों को डिज़ाइन किया जाना चाहिए ताकि उन विनिमय मूल्य में उतार-चढ़ाव के आयाम को कम किया जा सके जो गलत सूचना से उत्पन्न होते हैं। संचार और आंशिक संचार में विफलता को शामिल करने के लिए यहां गलत सूचना का उपयोग किया जाता है।

4. अंतरिम अवधियों के लिए रिपोर्ट में डेटा के अत्यधिक विघटन को प्रतिबिंबित किया जाना चाहिए। असहमति को उन घटनाओं की प्रकृति के बारे में जानकारी के प्रकटीकरण पर जोर देना चाहिए जो रिपोर्ट किए गए डेटा को रेखांकित करते हैं।

5. अंतरिम रिपोर्ट में पूर्वानुमान-क्षमता पर जोर देने के साथ विकसित आंकड़ों को शामिल किया जाना चाहिए। असामान्य घटनाओं, जिसका प्रभाव आकार में सामग्री है, अंतरिम रिपोर्टों में अलग से खुलासा किया जाना चाहिए। भौतिकता अंतरिम अवधि की गतिविधियों के परिणामों पर आधारित होनी चाहिए। अंतरिम बयानों में समान घटनाओं की रिपोर्टिंग और रिपोर्टिंग समय के साथ किसी इकाई के लिए संगत होनी चाहिए। अंतरिम रिपोर्ट, पदार्थ में, वार्षिक रिपोर्ट के साथ स्पष्ट होना चाहिए।

6. अंतरिम अवधि की गतिविधियों की जानकारी की रिपोर्टिंग में समयबद्धता पर जोर दिया जाना चाहिए। वित्तीय रिपोर्टों को सार्वजनिक स्वामित्व वाली व्यावसायिक कंपनियों द्वारा प्रत्येक वित्तीय वर्ष के दौरान कम से कम चार बार बाहरी उपयोगकर्ताओं को वितरित किया जाना चाहिए, और आमतौर पर प्रत्येक तीन महीने की अवधि के बाद।

Suggestions for Improving Interim Reports:

1. Adopting fiscal period to operating cycle:

Accounting problems resulting from arbitrary cut-offs can be minimised by selecting a close date which coincides with a time of low activity in a company’s natural operating cycle. Businesses which experience more than one distinct seasonal cycle within a year could improve the significance of quarterly statements by reporting for seasonal cycles rather than for calendar years.

Reports for periods containing a uniform number of working days rather than for calendar months, and prorating costs on the basis of working days instead of months help to remove some erratic fluctuations in monthly and quarterly operating results.

1. परिचालन चक्र के लिए राजकोषीय अवधि को अपनाना:

मनमाने ढंग से कट-ऑफ के परिणामस्वरूप होने वाली लेखांकन समस्याओं को एक करीबी तारीख का चयन करके कम किया जा सकता है जो किसी कंपनी के प्राकृतिक परिचालन चक्र में कम गतिविधि के समय के साथ मेल खाता है। वे व्यवसाय जो एक वर्ष के भीतर एक से अधिक मौसमी चक्र का अनुभव करते हैं, वे कैलेंडर वर्षों के बजाय मौसमी चक्रों के लिए रिपोर्टिंग करके तिमाही बयानों के महत्व में सुधार कर सकते हैं।

कैलेंडर महीनों के बजाय कार्य दिवसों की एक समान संख्या वाली अवधि के लिए रिपोर्ट, और महीनों के बजाय कार्य दिवसों के आधार पर पूर्ववर्ती खर्च मासिक और त्रैमासिक परिचालन परिणामों में कुछ अनियमित उतार-चढ़ाव को दूर करने में मदद करते हैं।

2. Smoothing income to minimise fluctuations:

Accounting techniques for smoothing interim income include accrual of anticipated expenses which relate to the whole year rather than reporting them when they arise. For example, provision for bad debts may be accrued monthly rather than only at the end of the year.

2. उतार-चढ़ाव को कम करने के लिए आय को कम करना:

अंतरिम आय को सुचारू करने के लिए लेखांकन तकनीकों में प्रत्याशित खर्चों का क्रम शामिल होता है जो पूरे वर्ष से संबंधित होते हैं, जब वे उत्पन्न होते हैं, तो उन्हें रिपोर्ट करने के बजाय। उदाहरण के लिए, बुरे ऋणों के लिए प्रावधान केवल वर्ष के अंत में मासिक के बजाय अर्जित किया जा सकता है।

3. Allocating annual costs to interim periods on basis of sales:

Reported profit tends to vary with sales when annual costs are allocated to interim periods on the basis of the period’s portion of total annuals sales.

To have interim period costs and profits vary with sales is advantageous to investors who are seeking to forecast annual profits because forecasts of sales can then more easily be translated into forecasts of profits. However, maximum benefits will result only where annual costs of both manufacturing and non-manufacturing functions are allocated to periods on the basis of sales.

3. बिक्री के आधार पर अंतरिम अवधियों को वार्षिक लागत आवंटित करना:

रिपोर्ट किया गया लाभ कुल बिक्री के समय के हिस्से के आधार पर अंतरिम अवधियों के लिए वार्षिक लागत आवंटित किए जाने पर बिक्री के साथ भिन्न होता है।

अंतरिम अवधि की लागत और मुनाफे में बिक्री के साथ भिन्नता उन निवेशकों के लिए फायदेमंद होती है जो वार्षिक लाभ का अनुमान लगाने की कोशिश कर रहे हैं क्योंकि बिक्री के पूर्वानुमान तब अधिक आसानी से मुनाफे के पूर्वानुमान में अनुवादित किए जा सकते हैं। हालाँकि, अधिकतम लाभ केवल वही होगा जहां विनिर्माण और गैर-विनिर्माण दोनों कार्यों की वार्षिक लागत बिक्री के आधार पर अवधि के लिए आवंटित की जाती है।

4. To aid interpretations:

Disclosure to aid interpretations where material amounts of unusual items have been accrued or differed in accounting for interim income, disclosure of the procedures followed may help the users to interpret the results. Since investment decisions are based on future expectations rather than past performance, a view of management’s expectations by interim periods would seem to be helpful.

Interim financial reporting, undoubted, is useful to managements and shareholders (existing and potential) since economic decisions are made by the investors throughout the year and not necessarily at the end of an accounting period.

The preparation of interim reports, say quarterly or half yearly, requires the solution of some accounting problems, e.g., matching problem, inventory valuation problem, besides probably the most important issue as to extent of disclosure in interim reports.

It is now argued that interim statement should be a complete financial statement—complete profit and loss account and balance sheet. Inadequate disclosure of interim information will not achieve the objectives underlying financial reporting.

The costs involved in gathering, preparing, developing and distributing the interim information is also an important factor and may act as a restraint in the objective of providing fuller interim information.

It has to be satisfied that benefits likely to be derived from interim reports are more than the costs involved therein. If costs of disclosure are within manageable limits, business enterprise should prefer to give interim data to the shareholders, investors and other interested users.

4. व्याख्याओं की सहायता के लिए:

अंतरिम सहायता के लिए प्रकटीकरण जहां असामान्य वस्तुओं की भौतिक मात्रा अर्जित की गई है या अंतरिम आय के लिए लेखांकन में अंतर किया गया है, प्रक्रियाओं के प्रकटीकरण का पालन करने से उपयोगकर्ताओं को परिणामों की व्याख्या करने में मदद मिल सकती है। चूंकि निवेश के निर्णय पिछले प्रदर्शन के बजाय भविष्य की अपेक्षाओं पर आधारित होते हैं, इसलिए अंतरिम अवधियों द्वारा प्रबंधन की अपेक्षाओं का एक दृष्टिकोण मददगार प्रतीत होगा।

निस्संदेह वित्तीय रिपोर्टिंग, निस्संदेह, प्रबंधन और शेयरधारकों (मौजूदा और संभावित) के लिए उपयोगी है क्योंकि पूरे वर्ष निवेशकों द्वारा आर्थिक निर्णय किए जाते हैं और लेखा अवधि के अंत में जरूरी नहीं है।

अंतरिम रिपोर्ट तैयार करना, त्रैमासिक या छमाही कहना, कुछ लेखांकन समस्याओं के समाधान की आवश्यकता होती है, उदाहरण के लिए, मिलान समस्या, इन्वेंट्री वैल्यूएशन समस्या, इसके अलावा अंतरिम रिपोर्टों में प्रकटीकरण की सीमा तक संभवतः सबसे महत्वपूर्ण मुद्दा।

अब यह तर्क दिया गया है कि अंतरिम बयान एक पूर्ण वित्तीय विवरण होना चाहिए- पूर्ण लाभ और हानि खाता और बैलेंस शीट। अंतरिम सूचना के अपर्याप्त प्रकटीकरण से वित्तीय रिपोर्टिंग अंतर्निहित उद्देश्यों को प्राप्त नहीं होगी।

अंतरिम जानकारी को इकट्ठा करने, तैयार करने, विकसित करने और वितरित करने में शामिल लागत भी एक महत्वपूर्ण कारक है और पूर्ण अंतरिम जानकारी प्रदान करने के उद्देश्य में संयम के रूप में कार्य कर सकती है।

यह संतुष्ट होना चाहिए कि अंतरिम रिपोर्टों से प्राप्त होने वाले लाभों में होने वाली लागत से अधिक है। यदि प्रकटीकरण की लागत प्रबंधनीय सीमा के भीतर है, तो व्यापार उद्यम को शेयरधारकों, निवेशकों और अन्य इच्छुक उपयोगकर्ताओं को अंतरिम डेटा देना पसंद करना चाहिए।


Sunday, March 7, 2021

Segment Reporting (M.com - 1st Sem) - 3rd Unit

Segment reporting is the reporting of the operating segments of a company in the disclosures accompanying its financial statements. Segment reporting is required for publicly-held entities, and is not required for privately held ones. Segment reporting is intended to give information to investors and creditors regarding the financial results and position of the most important operating units of a company, which they can use as the basis for decisions related to the company. The objective of segment reporting is to help financial statement users better understand your company's performance, better assess your company's prospects for future cash flows, and make more informed judgments about your company as a whole. Accounting standard 17 deals with segment reporting that was established to help better understand performance risk and returns of an enterprise. It deals with the provisions pertaining to the reporting of segment information in order to meet the needs of the users of the financial statements. 

Segment Reporting
Segment Reporting

 In financial reporting, a segment is a part of the business that has separate financial information and a separate management strategy. ... Management accounting often reviews the company by segment to determine which areas or lines are working better than others.

Under Generally Accepted Accounting Principles (GAAP), an operating segment engages in business activities from which it may earn revenue and incur expenses, has discrete financial information available, and whose results are regularly reviewed by the entity's chief operating decision maker for performance assessment and resource allocation decisions. Follow these rules to determine which segments need to be reported:

Aggregate the results of two or more segments if they have similar products, services, processes, customers, distribution methods, and regulatory environments.

Report a segment if it has at least 10% of the revenues, 10% of the profit or loss, or 10% of the combined assets of the entity.

If the total revenue of the segments you have selected under the preceding criteria comprise less than 75% of the entity's total revenue, then add more segments until you reach that threshold.

You can add more segments beyond the minimum just noted, but consider a reduction if the total exceeds ten segments.

सेगमेंट रिपोर्टिंग एक कंपनी के ऑपरेटिंग सेगमेंट की रिपोर्टिंग है जिसमें उसके वित्तीय विवरणों के साथ खुलासे हुए हैं। सार्वजनिक रूप से आयोजित संस्थाओं के लिए सेगमेंट रिपोर्टिंग आवश्यक है, और निजी तौर पर आयोजित लोगों के लिए आवश्यक नहीं है। सेगमेंट रिपोर्टिंग का उद्देश्य निवेशकों और लेनदारों को किसी कंपनी की सबसे महत्वपूर्ण परिचालन इकाइयों के वित्तीय परिणामों और स्थिति के बारे में जानकारी देना है, जिसे वे कंपनी से संबंधित निर्णयों के आधार के रूप में उपयोग कर सकते हैं। सेगमेंट रिपोर्टिंग का उद्देश्य वित्तीय विवरण उपयोगकर्ताओं को आपकी कंपनी के प्रदर्शन को बेहतर ढंग से समझने में मदद करना है, भविष्य के नकदी प्रवाह के लिए आपकी कंपनी की संभावनाओं का बेहतर मूल्यांकन करना है, और समग्र रूप से आपकी कंपनी के बारे में अधिक सूचित निर्णय करना है। लेखांकन मानक 17 सेगमेंट रिपोर्टिंग के साथ संबंधित है जो एक उद्यम के बेहतर प्रदर्शन और जोखिम को समझने में मदद करने के लिए स्थापित किया गया था। यह वित्तीय विवरणों के उपयोगकर्ताओं की जरूरतों को पूरा करने के लिए खंड की जानकारी की रिपोर्टिंग से संबंधित प्रावधानों से संबंधित है।

वित्तीय रिपोर्टिंग में, एक खंड व्यवसाय का एक हिस्सा है जिसमें अलग-अलग वित्तीय जानकारी और एक अलग प्रबंधन रणनीति होती है। ... प्रबंधन लेखांकन अक्सर यह निर्धारित करने के लिए कि क्षेत्र या लाइनें दूसरों की तुलना में बेहतर काम कर रही हैं, खंड द्वारा कंपनी की समीक्षा करती है।

आम तौर पर स्वीकृत लेखा सिद्धांतों (जीएएपी) के तहत, एक परिचालन खंड व्यवसायिक गतिविधियों में संलग्न होता है, जिससे वह राजस्व और व्यय खर्च कर सकता है, जिसमें वित्तीय जानकारी उपलब्ध है, और जिनके परिणाम नियमित रूप से प्रदर्शन मूल्यांकन और संसाधन के लिए इकाई के मुख्य परिचालन निर्णय निर्माता द्वारा समीक्षा किए जाते हैं। आवंटन के निर्णय। यह निर्धारित करने के लिए कि कौन से सेगमेंट को रिपोर्ट करने की आवश्यकता है, इन नियमों का पालन करें:

यदि उनके समान उत्पाद, सेवाएँ, प्रक्रियाएँ, ग्राहक, वितरण विधियाँ, और विनियामक वातावरण हैं, तो दो या अधिक सेगमेंट के परिणामों को अलग करें।

यदि किसी खंड में कम से कम 10% राजस्व, लाभ या हानि का 10% या इकाई की संयुक्त संपत्ति का 10% है, तो इसकी रिपोर्ट करें।

यदि पूर्ववर्ती मानदंड के तहत आपके द्वारा चुने गए खंडों का कुल राजस्व इकाई के कुल राजस्व का 75% से कम है, तो उस खंड तक पहुंचने तक अधिक खंड जोड़ें।

आप न्यूनतम उल्लिखित से अधिक खंड जोड़ सकते हैं, लेकिन कुल दस खंडों से अधिक होने पर कटौती पर विचार करें।

As you prepare to operate as a public company, you will need to understand the increased financial reporting demands that accompany this transition. One major change which can often come as a surprise is segment reporting. The US Generally Accepted Accounting Principles (GAAP) requirements regarding segment reporting are explained in the FASB Accounting Standards Codification (ASC) Topic 280. The objective of segment reporting is to help financial statement users better understand your company’s performance, better assess your company’s prospects for future cash flows, and make more informed judgments about your company as a whole. The ASC 280 requirements attempt to give financial statement users information at a level of granularity similar to the level a decision-making executive within your company might receive.

जब आप एक सार्वजनिक कंपनी के रूप में काम करने की तैयारी करते हैं, तो आपको इस संक्रमण के साथ बढ़ती वित्तीय रिपोर्टिंग मांगों को समझने की आवश्यकता होगी। एक बड़ा बदलाव जो अक्सर एक आश्चर्य के रूप में आ सकता है वह है सेगमेंट रिपोर्टिंग। सेगमेंट रिपोर्टिंग के बारे में अमेरिका की आम तौर पर स्वीकृत लेखा सिद्धांत (जीएएपी) आवश्यकताओं को एफएएसबी लेखा मानक संहिताकरण (एएससी) टॉपिक 280 में समझाया गया है। सेगमेंट रिपोर्टिंग का उद्देश्य वित्तीय विवरण उपयोगकर्ताओं को आपकी कंपनी के प्रदर्शन को बेहतर ढंग से समझने में मदद करना है, आपकी कंपनी की संभावनाओं का बेहतर आकलन करना है। भविष्य की नकदी प्रवाह, और समग्र रूप से आपकी कंपनी के बारे में अधिक सूचित निर्णय लेते हैं। एएससी 280 आवश्यकताओं को वित्तीय विवरण उपयोगकर्ताओं को आपकी कंपनी के भीतर निर्णय लेने वाले कार्यकारी स्तर के समान दानेदारता के स्तर पर जानकारी देने का प्रयास करता है।

Business Segment:-

A business segment is a part of a company that can be identified by the products it provides or by the services or geographical locations it operates in. In other words, it a single part of a business that can be distinctly separated from the company as a whole based on its customers, products, or market places.

एक व्यापार खंड एक कंपनी का एक हिस्सा है जिसे उत्पादों द्वारा प्रदान की जाने वाली सेवाओं या भौगोलिक स्थानों द्वारा पहचाना जा सकता है। दूसरे शब्दों में, यह एक व्यवसाय का एक हिस्सा है जिसे कंपनी के रूप में विशिष्ट रूप से अलग किया जा सकता है। अपने ग्राहकों, उत्पादों या बाजार स्थानों के आधार पर संपूर्ण।

Geographic segmentation:-

Geographic segmentation is when a business divides its market on the basis of geography. You can geographically segment a market by area, such as cities, counties, regions, countries, and international regions. You can also break a market down into rural, suburban and urban areas.

भौगोलिक विभाजन तब होता है जब कोई व्यवसाय भूगोल के आधार पर अपने बाजार को विभाजित करता है। आप भौगोलिक रूप से शहर, काउंटी, क्षेत्र, देश और अंतर्राष्ट्रीय क्षेत्रों जैसे क्षेत्र के आधार पर एक बाजार को विभाजित कर सकते हैं। आप ग्रामीण, उपनगरीय और शहरी क्षेत्रों में एक बाजार को तोड़ सकते हैं।

Reportable Segment:-

A reportable segment is an exploitable segment that makes up at least 10 percent of the overall business's revenues or assets. In effect, a reportable segment is like a business within a business.

एक रिपोर्ट करने योग्य सेगमेंट एक शोषक सेगमेंट है, जो कुल कारोबार के राजस्व या संपत्ति का कम से कम 10 प्रतिशत बनाता है। वास्तव में, एक रिपोर्ट योग्य सेगमेंट एक व्यवसाय के भीतर एक व्यवसाय की तरह है।

Terminology Of Segment Reporting:-

Segment Revenue- revenue, including intersegment revenue, that is directly attributable or reasonably allocable to a segment. Includes interest and dividend income and related securities gains only if the segment is a financial segment (bank, insurance company, etc.). Intersegment sales refer to revenue generated by means of a transaction between segments within the same business. It is generally the case with large conglomerates that engage in several lines of business. Such companies manage segments that have interconnect operations either vertically or horizontally.

सेगमेंट रेवेन्यू: राजस्व, जिसमें इंटर्सेक्शन रेवेन्यू भी शामिल है, जो किसी सेगमेंट के लिए सीधे जिम्मेदार या यथोचित रूप से आबंटित है। इसमें ब्याज और लाभांश आय और संबंधित प्रतिभूतियों का लाभ शामिल है, यदि यह खंड एक वित्तीय खंड (बैंक, बीमा कंपनी, आदि) है। एक ही व्यवसाय के भीतर खंडों के बीच लेन-देन के माध्यम से उत्पन्न बिक्री को संदर्भित करता है। यह आम तौर पर बड़े समूह के साथ होता है जो व्यवसाय की कई लाइनों में संलग्न होते हैं। ऐसी कंपनियाँ ऐसे खंडों का प्रबंधन करती हैं, जिनका संचालन या तो लंबवत या क्षैतिज रूप से होता है।

Segment Expense- expenses, including expenses relating to intersegment transactions, that (a) result from operating activities and (b) are directly attributable or reasonably allocable to a segment. ... Segment expenses do not include: interest. losses on sales of investments or debt extinguishments. 

सेगमेंट खर्च: व्यय, जिसमें अंतःसंबंध लेनदेन से संबंधित खर्च शामिल हैं, (ए) परिचालन गतिविधियों से परिणाम और (बी) सीधे एक खंड के लिए जिम्मेदार या यथोचित रूप से आवंटित हैं। ... सेगमेंट खर्चों में शामिल नहीं हैं: ब्याज। निवेश या ऋण बुझाने की बिक्री पर नुकसान।

Segment Result- Segment result is segment revenue less segment expense. 5.8 Segment assets are those operating assets that are employed by a segment in its operating activities and that either are directly attributable to the segment or can be allocated to the segment on a reasonable basis.

खंड परिणाम सेगमेंट राजस्व कम खंड व्यय है। 5.8 सेगमेंट परिसंपत्तियां उन परिचालन परिसंपत्तियां हैं जो एक खंड द्वारा इसकी परिचालन गतिविधियों में नियोजित हैं और जो या तो सीधे खंड के लिए जिम्मेदार हैं या उचित आधार पर खंड को आवंटित की जा सकती हैं।

Segment Liabilities- Segment liabilities are those operating liabilities that result from the operating activities of a segment and that either are directly attributable to the segment or can be allocated to the segment on a reasonable basis.

सेगमेंट देनदारियां उन ऑपरेटिंग देनदारियों हैं जो किसी सेगमेंट की ऑपरेटिंग गतिविधियों के परिणामस्वरूप होती हैं और जो या तो सीधे सेगमेंट के लिए जिम्मेदार होती हैं या उन्हें उचित आधार पर सेगमेंट में आवंटित किया जा सकता है।

Segment Accounting Policies- While the accounting policies used in preparing and presenting the financial statements of the enterprise as a whole are also the fundamental segment accounting policies, segment accounting policies include, in addition, policies that relate specifically to segment reporting, such as identification of segments, method of pricing inter-segment transfers, and basis for allocating revenues and expenses to segments.

जबकि एक पूरे के रूप में उद्यम के वित्तीय विवरणों को तैयार करने और प्रस्तुत करने में उपयोग की जाने वाली लेखांकन नीतियां भी मौलिक खंड लेखांकन नीतियां हैं, खंड लेखांकन नीतियां शामिल हैं, इसके अलावा, ऐसी नीतियां जो विशेष रूप से खंड की रिपोर्टिंग से संबंधित हैं, जैसे कि खंडों की पहचान, विधि की विधि अंतर-खंड हस्तांतरण का मूल्य निर्धारण, और खंडों को राजस्व और खर्च आवंटित करने के लिए आधार

Segment Assets- Segment assets include operating assets shared by two or more segments if a reasonable basis for allocation exists. Segment assets include goodwill that is directly attributable to a segment or that can be allocated to a segment on a reasonable basis, and segment expense includes related amortisation of goodwill.

सेगमेट एसेट्स में दो या अधिक सेगमेंट द्वारा साझा की गई ऑपरेटिंग एसेट्स शामिल हैं यदि आवंटन का उचित आधार मौजूद है। खंड संपत्तियों में सद्भावना शामिल होती है जो सीधे एक खंड के लिए जिम्मेदार होती है या जिसे उचित आधार पर एक खंड को आवंटित किया जा सकता है, और खंड व्यय में सद्भावना के संबंधित परिशोधन शामिल हैं

Need for segment reporting-

Segment reporting breaks down the operations of a company into manageable pieces, or segments. Public companies must then record detailed financial statements for each operating segment. The goal is to increase transparency for creditors and investors, especially regarding the company's most important operating units. Diversified companies present a peculiar and special problem for investment decision-making. The progress and success of a diversified company are composites of the progress and success of its several segments. Proponents of segment reporting contend that information about separate segments contributes to investor evaluations of diversified companies.

खंड रिपोर्टिंग किसी कंपनी के संचालन को प्रबंधनीय टुकड़ों, या खंडों में तोड़ देती है। सार्वजनिक कंपनियों को तब प्रत्येक ऑपरेटिंग सेगमेंट के लिए विस्तृत वित्तीय विवरण दर्ज करने होंगे। लक्ष्य विशेष रूप से कंपनी की सबसे महत्वपूर्ण परिचालन इकाइयों के बारे में लेनदारों और निवेशकों के लिए पारदर्शिता बढ़ाना है। विविध कंपनियां निवेश निर्णय लेने के लिए एक अजीब और विशेष समस्या पेश करती हैं। एक विविध कंपनी की प्रगति और सफलता इसके कई खंडों की प्रगति और सफलता के कंपोजिट हैं। खंड रिपोर्टिंग के समर्थकों का तर्क है कि अलग-अलग खंडों की जानकारी विविध कंपनियों के निवेशक मूल्यांकन में योगदान करती है।

1. Segment Disclosure and Investment Decision-Making: A major argument in support of segmental reporting is that if investors are provided with information about the profitability, risk and growth of the different segments of a company’s operations, they will be better able to assess the earnings potential and the risk of the company as a whole.

They will be able to predict more accurately a firm’s future earnings and cash flows than can be done by using consolidated data alone. Investor uncertainty about company prospects will thus be reduced, share prices will be set more accurately, and a more efficient allocation of resources will be promoted.

खंडीय रिपोर्टिंग के समर्थन में एक प्रमुख तर्क यह है कि यदि निवेशकों को कंपनी के संचालन के विभिन्न खंडों की लाभप्रदता, जोखिम और वृद्धि के बारे में जानकारी प्रदान की जाती है, तो वे कमाई क्षमता और कंपनी के जोखिम के आकलन में बेहतर होंगे। पूरा का पूरा।

वे फर्म की भविष्य की कमाई का अधिक सटीक अनुमान लगा सकते हैं और नकदी प्रवाह की तुलना में अकेले समेकित डेटा का उपयोग करके किया जा सकता है। कंपनी की संभावनाओं के बारे में निवेशक की अनिश्चितता इस प्रकार कम हो जाएगी, शेयर की कीमतें अधिक सटीक रूप से निर्धारित की जाएंगी, और संसाधनों के एक अधिक कुशल आवंटन को बढ़ावा दिया जाएगा।

2. Segments Disclosure and Other Users (Other than Investors):

Besides the investors, it has been suggested that segmental reports are likely to be useful to employees and trade unions, consumers, the general public, government and also for the purpose of promoting managerial efficiency. Employees and trade unions are interested in the performance and prospects of the firm from the standpoint of wage negotiations and job security and hence, segmental reports may be just as relevant to them as to investors.

निवेशकों के अलावा, यह सुझाव दिया गया है कि सेगमेंट रिपोर्ट कर्मचारियों और ट्रेड यूनियनों, उपभोक्ताओं, आम जनता, सरकार और प्रबंधकीय दक्षता को बढ़ावा देने के उद्देश्य से उपयोगी हो सकती है। कर्मचारी और ट्रेड यूनियन मजदूरी वार्ता और नौकरी की सुरक्षा के दृष्टिकोण से फर्म के प्रदर्शन और संभावनाओं में रुचि रखते हैं और इसलिए, खंडीय रिपोर्ट निवेशकों के लिए उनके लिए उतनी ही प्रासंगिक हो सकती है।

There is also a need for information on segmental performance so that policy decisions by management to develop or curtail particular activities can be verified and understood. Lack of information, on the other hand, may lead to distrust and labour relations problems.

खंडीय प्रदर्शन के बारे में जानकारी की भी आवश्यकता है ताकि प्रबंधन द्वारा विशेष गतिविधियों को विकसित या घुमावदार करने के नीतिगत निर्णयों को सत्यापित और समझा जा सके। दूसरी ओर, जानकारी का अभाव, अविश्वास और श्रम संबंधों की समस्याओं को जन्म दे सकता है।

The interests of consumers and the public may also be promoted by segmental disclosure in the sense that social responsibility in terms of the removal of price discrimination could be encouraged by disclosure of profits by segment. Consumers may also benefit from the increased competition that may result.

उपभोक्ताओं और जनता के हितों को इस तरह से खंडित प्रकटीकरण द्वारा बढ़ावा दिया जा सकता है कि मूल्य भेदभाव को हटाने के संदर्भ में सामाजिक जिम्मेदारी को खंड द्वारा मुनाफे के प्रकटीकरण द्वारा प्रोत्साहित किया जा सकता है। उपभोक्ताओं को भी बढ़ी हुई प्रतिस्पर्धा से लाभ हो सकता है।

Governments, at national and also international level in the case of multinational companies, are becoming increasingly concerned by the activities of large companies and the balance of payments.

बहुराष्ट्रीय कंपनियों के मामले में राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर सरकारें, बड़ी कंपनियों की गतिविधियों और भुगतान संतुलन से चिंतित हो रही हैं।

Accounting standard issued relating to segment reporting- 

  • AS 14 & FAS 31 - iSSUED BY FASB of U.S.A
  • IAS 14 & IFRS 8 - iSSUED BY IASB in IASC
  • SAP 14 - iSSUED BY ASB in U.K
  • AS 14 - iSSUED in Hongkong
  • AS 17 - iSSUED BY ICAI in India

Segment Disclosure & USER Group - Segment disclosures included in the notes to the financial statements provide users with insights into how the chief operating decision maker (CODM) allocates resources and assesses the performance of the company's segments.

वित्तीय विवरणों में नोटों में शामिल सेगमेंट के खुलासे से उपयोगकर्ताओं को जानकारी मिलती है कि मुख्य परिचालन निर्णय निर्माता (CODM) संसाधनों को कैसे आवंटित करते हैं और कंपनी के सेगमेंट के प्रदर्शन का आकलन करते हैं।

  1. Inverstor
  2. Employees
  3. Management
  4. Government Agencies
  5. Consumers

Problem's In Segment Reporting - 

The following points highlight the top seven problems in segment reporting for management, i.e, (1) Base of Segmentation, (2) Allocation Problem, (3) Disclosure Costs, (4) Managerial Conservatism, (5) Inter-segment Transactions, (6) Difficulty in Providing Data, and (7) Problem of Misinterpretations.

(1) Base of Segmentation - Basic problem which arises in segment reporting is division of a diversified company for segment reporting purposes. Every base of segmentation may create segments differently. Identification of segmentation is also problematic. Segmentation can be done on the basis of organisational division, Industry, Market, Product etc. Each base has its own limitation and own problem.

खंड रिपोर्टिंग में उत्पन्न होने वाली मूल समस्या खंड रिपोर्टिंग उद्देश्यों के लिए एक विविध कंपनी का विभाजन है। विभाजन का प्रत्येक आधार अलग-अलग खंड बना सकता है। विभाजन की पहचान भी समस्याग्रस्त है। संगठनात्मक विभाजन, उद्योग, बाजार, उत्पाद आदि के आधार पर विभाजन किया जा सकता है। प्रत्येक आधार की अपनी सीमा और अपनी समस्या है।

(2) Allocation Problem - In business organisation where more than one product are dealt. There are likely to be costs which are common to two or more products. Joint Costs can be general administrative expenses and legal expenses. Allocation of these joint costs becomes a complex problem while doing segment reporting. However there can be some common costs which can be apportioned on some reasonable basis for example electricity charges which can be apportioned on the basis of light Points in a particular segment on the other hand there can be some common costs like salary of a director which can only be apportioned on some arbitrary basis.

व्यापार संगठन में जहां एक से अधिक उत्पाद निपटाए जाते हैं। ऐसी लागतें होने की संभावना है जो दो या अधिक उत्पादों के लिए आम हैं। संयुक्त लागत सामान्य प्रशासनिक व्यय और कानूनी खर्च हो सकते हैं। खंड की रिपोर्टिंग करते समय इन संयुक्त लागतों का आवंटन एक जटिल समस्या बन जाती है। हालाँकि कुछ सामान्य लागतें हो सकती हैं जो उदाहरण के लिए कुछ उचित आधार पर बिजली के शुल्क के रूप में जमा की जा सकती हैं जो कि प्रकाश बिंदुओं के आधार पर किसी विशेष खंड में अपील की जा सकती हैं, दूसरी ओर कुछ सामान्य लागत भी हो सकती हैं जैसे निदेशक का वेतन केवल कुछ अनियंत्रित आधार पर आशंकित होना।

(3) Disclosure Costs - Segment reporting also involves costs of disclosures. The provision of additional information along with routine information increases firm’s operating costs in terms of cost of collection processing and costs of management control systems. Cost argument is also related with increased competition that may result from segment reporting.

सेगमेंट रिपोर्टिंग में खुलासे की लागत भी शामिल है। नियमित जानकारी के साथ अतिरिक्त जानकारी का प्रावधान संग्रह प्रसंस्करण की लागत और प्रबंधन नियंत्रण प्रणालियों की लागत के मामले में फर्म की परिचालन लागत को बढ़ाता है। लागत तर्क भी बढ़ी हुई प्रतिस्पर्धा से संबंधित है जो खंड की रिपोर्टिंग के परिणामस्वरूप हो सकता है।

(4) Managerial Conservatism - In the absence of some regulatory provisions to disclose segment reports; voluntary disclosures are likely to be perceived by manager to be beneficial only in certain situations. For example management will do the segment reporting when they believe that company’s attractiveness can be enhanced.

खंड रिपोर्टों का खुलासा करने के लिए कुछ नियामक प्रावधानों के अभाव में; स्वैच्छिक प्रकटीकरणों को प्रबंधक द्वारा केवल कुछ स्थितियों में लाभप्रद होने की संभावना है। उदाहरण के लिए प्रबंधन खंड रिपोर्टिंग तब करेगा जब उन्हें विश्वास हो कि कंपनी का आकर्षण बढ़ाया जा सकता है।

(5) Inter-segment Transactions - In a diversified business entity which may have some inter-segment transactions. There are number of methods for inter segment transfers i.e. cost, cost-plus, market price and negotiated prices. All these methods result in different operating results for reporting segment.

एक विविध व्यवसाय इकाई में जिसमें कुछ अंतर-खंड लेनदेन हो सकते हैं। अंतर खंड हस्तांतरण यानी लागत, लागत-प्लस, बाजार मूल्य और बातचीत की कीमतों के लिए कई तरीके हैं। इन सभी तरीकों से रिपोर्टिंग सेगमेंट के लिए अलग-अलग ऑपरेटिंग परिणाम मिलते हैं।

(6) Difficulty in Providing Data - Measurement problems have created problem of difficulty in providing at while doing segment reporting. Since the measurement problem influences the feasibility of disclosing certain information, one should look at the problem of determining segment information. If we look upon profit and loss account statement, we immediately run into trouble with the sales figure particularly inter segment sales.

माप की समस्याओं ने खंड रिपोर्टिंग करते समय प्रदान करने में कठिनाई की समस्या पैदा की है। चूंकि माप की समस्या कुछ जानकारी का खुलासा करने की व्यवहार्यता को प्रभावित करती है, इसलिए किसी को खंड की जानकारी निर्धारित करने की समस्या को देखना चाहिए। यदि हम लाभ और हानि खाते के विवरण को देखते हैं, तो हम तुरंत बिक्री के आंकड़ों के साथ विशेष रूप से अंतर खंड की बिक्री में परेशानी में पड़ जाते हैं।

(7) Problem of Misinterpretations - In case of inclusion of inter segment transfers of sales. It leads to misinterpretation by user groups if the segment sales figures are larger than the consolidated sales figures. Besides the sales figure, another problem arises is the determination of segment costs. However, it is very easy to determine traceable costs of a segment but the real problem arises in determining share of segment cost out of a common cost incurred on two or more segments.

बिक्री के अंतर खंडों के हस्तांतरण के मामले में। यह उपयोगकर्ता समूहों द्वारा गलत व्याख्या की ओर जाता है यदि खंड की बिक्री के आंकड़े समेकित बिक्री के आंकड़े से बड़े हैं। बिक्री के आंकड़े के अलावा, एक और समस्या यह है कि खंड की लागत का निर्धारण होता है। हालाँकि, एक सेगमेंट की ट्रेस करने योग्य लागतों को निर्धारित करना बहुत आसान है, लेकिन वास्तविक समस्या दो या अधिक सेगमेंट्स पर एक कॉमन कॉस्ट से बाहर सेगमेंट कॉस्ट की हिस्सेदारी को निर्धारित करने में उत्पन्न होती है।

Segment Information to be disclosure -

Segment disclosures are based on management information reported to the chief operating decision maker. Segment disclosures are based on IFRS-compliant financial information. Management information may not be supported by the same robust processes and controls, or subject to external audit.

खंड के खुलासे मुख्य परिचालन निर्णय निर्माता को रिपोर्ट की गई प्रबंधन जानकारी पर आधारित हैं। खंड के खुलासे IFRS-compliant वित्तीय जानकारी पर आधारित हैं। प्रबंधन की जानकारी समान मजबूत प्रक्रियाओं और नियंत्रणों या बाहरी ऑडिट के अधीन होने के कारण समर्थित नहीं हो सकती है।

Method of presenting segment information/What are the steps in preparing a segment report? - 

Entities will need to: 1 Identify the CODM. 2 Identify their business activities (which may not necessarily earn revenue or incur expenses). 3 Determine whether discrete financial information is available for the business activities. 4 Determine whether that information is regularly reviewed by the CODM.

संस्थाओं को इसकी आवश्यकता होगी: 1 CODM को पहचानें। 2 उनकी व्यावसायिक गतिविधियों को पहचानें (जो जरूरी राजस्व या खर्च नहीं कमा सकते हैं)। 3 निर्धारित करें कि व्यावसायिक गतिविधियों के लिए असतत वित्तीय जानकारी उपलब्ध है या नहीं। 4 निर्धारित करें कि क्या सीओडीएम द्वारा उस जानकारी की नियमित समीक्षा की जाती है।

'The CODM is that individual or group of individuals that is responsible for the allocation of resources and assessing the performance of the entity's business units." (CODM वह व्यक्ति या व्यक्तियों का समूह है जो संसाधनों के आवंटन और इकाई की व्यावसायिक इकाइयों के प्रदर्शन का आकलन करने के लिए जिम्मेदार है।)

The accounting standard board of ICAI has issued AS-17 on segment reporting which has been reproduced below ((issued 2000))

Objective:- 

The objective of this Standard is to establish principles for reporting financial information, about the different types of products and services an enterprise produces and the different geographical areas in which it operates. Such information helps users of financial statements:

(a) better understand the performance of the enterprise;

(b) better assess the risks and returns of the enterprise; and

(c) make more informed judgements about the enterprise as a whole.

Many enterprises provide groups of products and services or operate in geographical areas that are subject to differing rates of profitability, opportunities for growth, future prospects, and risks. Information about different types of products and services of an enterprise and its operations in different geographical areas – often called segment information – is relevant to assessing the risks and returns of a diversified or multi-locational enterprise but may not be determinable from the aggregated data. Therefore, reporting of segment information is widely regarded as necessary for meeting the needs of users of financial statements.

इस मानक का उद्देश्य एक उद्यम द्वारा उत्पादित विभिन्न प्रकार के उत्पादों और सेवाओं के बारे में वित्तीय जानकारी की रिपोर्टिंग के लिए सिद्धांतों को स्थापित करना है और विभिन्न भौगोलिक क्षेत्रों में यह संचालित होता है। इस तरह की जानकारी उपयोगकर्ताओं को वित्तीय विवरणों में मदद करती है:

(ए) उद्यम के प्रदर्शन को बेहतर ढंग से समझना;

(बी) उद्यम के जोखिम और रिटर्न का बेहतर आकलन करता है; तथा

(ग) एक पूरे के रूप में उद्यम के बारे में अधिक सूचित निर्णय लेते हैं।

कई उद्यम उत्पादों और सेवाओं के समूह प्रदान करते हैं या भौगोलिक क्षेत्रों में संचालित होते हैं जो लाभप्रदता, विकास के अवसरों, भविष्य की संभावनाओं और जोखिमों की भिन्न दरों के अधीन होते हैं। एक उद्यम के विभिन्न प्रकार के उत्पादों और सेवाओं और विभिन्न भौगोलिक क्षेत्रों में इसके संचालन के बारे में जानकारी - जिसे अक्सर खंड जानकारी कहा जाता है - एक विविध या बहु-स्थानीय उद्यम के जोखिम और रिटर्न का आकलन करने के लिए प्रासंगिक है, लेकिन कुल आंकड़ों से निर्धारित नहीं हो सकता है। इसलिए, वित्तीय विवरण के उपयोगकर्ताओं की जरूरतों को पूरा करने के लिए खंड की जानकारी की रिपोर्टिंग को व्यापक रूप से आवश्यक माना जाता है।

Scope:- 

1. This Standard should be applied in presenting general purpose financial statements.

2. The requirements of this Standard are also applicable in case of consolidated financial statements.

3. An enterprise should comply with the requirements of this Standard fully and not selectively.

4. If a single financial report contains both consolidated financial statements and the separate financial statements of the parent, segment information need be presented only on the basis of the consolidated financial statements. In the context of reporting of segment information in consolidated financial statements, the references in this Standard to any financial statement items should construed to be the relevant item as appearing in the consolidated financial statements.

स्कोप: -

1. इस मानक को सामान्य प्रयोजन वित्तीय विवरणों को प्रस्तुत करने में लागू किया जाना चाहिए।

2. समेकित वित्तीय विवरणों के मामले में इस मानक की आवश्यकताएं भी लागू होती हैं।

3. एक उद्यम को इस मानक की आवश्यकताओं का पूरी तरह से अनुपालन करना चाहिए न कि चुनिंदा रूप से।

4. यदि किसी एकल वित्तीय रिपोर्ट में समेकित वित्तीय विवरण और माता-पिता के अलग-अलग वित्तीय विवरण शामिल हैं, तो खंड की जानकारी को समेकित वित्तीय विवरणों के आधार पर ही प्रस्तुत किया जाना चाहिए। समेकित वित्तीय वक्तव्यों में खंड की जानकारी की रिपोर्टिंग के संदर्भ में, इस मानक में किसी भी वित्तीय विवरण आइटम के संदर्भों को समेकित वित्तीय विवरणों में प्रदर्शित होने के लिए प्रासंगिक आइटम माना जाना चाहिए।

Identifying Reportable Segments:- 

Primary and Secondary Segment Reporting Formats

Primary Reporting Format:- 

39.The disclosure requirements in paragraphs 40-46 should be applied to each reportable segment based on primary reporting format of an enterprise.

प्राथमिक रिपोर्टिंग प्रारूप: -

39. पैराग्राफ 40-46 में प्रकटीकरण आवश्यकताओं को एक उद्यम के प्राथमिक रिपोर्टिंग प्रारूप के आधार पर प्रत्येक रिपोर्ट करने योग्य खंड पर लागू किया जाना चाहिए।

40. An enterprise should disclose the following for each reportable segment:

(a) segment revenue, classified into segment revenue from sales to external customers and segment revenue from transactions with other segments;

(b) segment result;

(c) total carrying amount of segment assets;

(d) total amount of segment liabilities;

(e) total cost incurred during the period to acquire segment assets that are expected to be used during more than one period (tangible and intangible fixed assets);

(f) total amount of expense included in the segment result for depreciation and amortisation in respect of segment assets for the period; and

(g) total amount of significant non-cash expenses, other than depreciation and amortisation in respect of segment assets, that were included in segment expense and, therefore, deducted in measuring segment result.

40. एक उद्यम को प्रत्येक रिपोर्ट करने योग्य सेगमेंट के लिए निम्नलिखित का खुलासा करना चाहिए:

(ए) खंड राजस्व, बाहरी ग्राहकों को बिक्री से खंड राजस्व में वर्गीकृत और अन्य क्षेत्रों के साथ लेनदेन से खंड राजस्व;

(बी) खंड परिणाम;

(ग) सेगमेंट परिसंपत्तियों की कुल वहन राशि;

(घ) खंड देनदारियों की कुल राशि;

(ई) एक से अधिक अवधि (मूर्त और अमूर्त अचल संपत्तियों) के दौरान उपयोग की जाने वाली खंड परिसंपत्तियों का अधिग्रहण करने की अवधि के दौरान होने वाली कुल लागत;

(च) अवधि के लिए खंड की संपत्ति के संबंध में मूल्यह्रास और परिशोधन के लिए खंड परिणाम में शामिल कुल व्यय; तथा

(छ) खंडों की संपत्ति के संबंध में मूल्यह्रास और परिशोधन के अलावा अन्य महत्वपूर्ण गैर-नकद खर्चों की कुल राशि, जो खंड व्यय में शामिल थे और इसलिए, खंड परिणाम को मापने में कटौती की गई थी।

41. Paragraph 40 (b) requires an enterprise to report segment result. If an enterprise can compute segment net profit or loss or some other measure of segment profitability other than segment result, without arbitrary allocations, reporting of such amount(s) in addition to segment result is encouraged. If that measure is prepared on a basis other than the accounting policies adopted for the financial statements of the enterprise, the enterprise will include in its financial statements a clear description of the basis of measurement.

41. पैराग्राफ 40 (बी) खंड परिणाम की रिपोर्ट करने के लिए एक उद्यम की आवश्यकता है। यदि कोई उद्यम खंड के शुद्ध लाभ या हानि या खंड लाभ के अलावा खंड लाभ के कुछ अन्य उपाय की गणना कर सकता है, तो मनमाने ढंग से आवंटन के बिना, खंड परिणाम के अलावा ऐसी राशि (रों) की रिपोर्टिंग को प्रोत्साहित किया जाता है। यदि वह उपाय उद्यम के वित्तीय विवरणों के लिए अपनाई गई लेखांकन नीतियों के अलावा अन्य आधार पर तैयार किया जाता है, तो उद्यम अपने वित्तीय विवरणों में माप के आधार का स्पष्ट विवरण शामिल करेगा।

42. An example of a measure of segment performance above segment result in the statement of profit and loss is gross margin on sales. Examples of measures of segment performance below segment result in the statement of profit and loss are profit or loss from ordinary activities (either before or after income taxes) and net profit or loss.

42. लाभ और हानि के बयान में सेगमेंट के परिणाम के ऊपर खंड के प्रदर्शन के माप का एक उदाहरण बिक्री पर सकल मार्जिन है। लाभ और हानि के बयान के परिणामस्वरूप खंड के नीचे खंड प्रदर्शन के उपायों के उदाहरण सामान्य गतिविधियों से लाभ या हानि हैं (या तो आयकर से पहले या बाद में) और शुद्ध लाभ या हानि।

43. Accounting Standard 5, ‘Net Profit or Loss for the Period, Prior Period Items and Changes in Accounting Policies’ requires that “when items of income and expense within profit or loss from ordinary activities are of such size, nature or incidence that their disclosure is relevant to explain the performance of the enterprise for the period, the nature and amount of such items should be disclosed separately”. Examples of such items include write- downs of inventories, provisions for restructuring, disposals of fixed assets and long-term investments, legislative changes having retrospective application, litigation settlements, and reversal of provisions. An enterprise is encouraged, but not required, to disclose the nature and amount of any items of segment revenue and segment expense that are of such size, nature, or incidence that their disclosure is relevant to explain the performance of the segment for the period. Such disclosure is not intended to change the classification of any such items of revenue or expense from ordinary to extraordinary or to change the measurement of such items. The disclosure, however, does change the level at which the significance of such items is evaluated for disclosure purposes from the enterprise level to the segment level.

43. लेखांकन मानक 5, 'अवधि के लिए शुद्ध लाभ या हानि, पूर्व अवधि की वस्तुएं और लेखांकन नीतियों में परिवर्तन' के लिए आवश्यक है कि "जब आम गतिविधियों से लाभ या हानि के भीतर आय और व्यय की वस्तुएं ऐसे आकार, प्रकृति या घटना के हों, प्रकटीकरण अवधि के लिए उद्यम के प्रदर्शन की व्याख्या करने के लिए प्रासंगिक है, इस तरह की वस्तुओं की प्रकृति और राशि का अलग से खुलासा किया जाना चाहिए ”। इस तरह की वस्तुओं के उदाहरणों में इन्वेंट्री के राइट्स, पुनर्गठन के लिए प्रावधान, अचल संपत्तियों के निपटान और लंबी अवधि के निवेश, विधायी परिवर्तन पूर्वव्यापी आवेदन, मुकदमेबाजी निपटान और प्रावधानों का उलट शामिल हैं। खंड राजस्व और खंड व्यय की किसी भी वस्तु की प्रकृति और राशि का खुलासा करने के लिए एक उद्यम को प्रोत्साहित किया जाता है, लेकिन इसकी आवश्यकता नहीं होती है कि ये आकार, प्रकृति या घटना के हैं, जो कि अवधि के लिए खंड के प्रदर्शन की व्याख्या करने के लिए उनका प्रकटीकरण प्रासंगिक है। इस तरह के प्रकटीकरण का उद्देश्य राजस्व की ऐसी किसी भी वस्तु के वर्गीकरण को बदलना या साधारण से असाधारण तक व्यय करना या ऐसी वस्तुओं का माप बदलना नहीं है। प्रकटीकरण, हालांकि, उस स्तर को बदलता है जिस पर उद्यम स्तर से खंड स्तर तक प्रकटीकरण उद्देश्यों के लिए ऐसी वस्तुओं के महत्व का मूल्यांकन किया जाता है।

44. An enterprise that reports the amount of cash flows arising from operating, investing and financing activities of a segment need not disclose depreciation and amortisation expense and non-cash expenses of such segment pursuant to sub-paragraphs (f) and (g) of paragraph 40.

44. एक उद्यम जो किसी खंड के परिचालन, निवेश और वित्तपोषण गतिविधियों से उत्पन्न होने वाले नकदी प्रवाह की रिपोर्ट करता है, उप खंडों (एफ) और (जी) के अनुसार ऐसे खंड के मूल्यह्रास और परिशोधन व्यय का खुलासा नहीं करना चाहिए। अनुच्छेद ४०।

45. AS 3, Cash Flow Statements, recommends that an enterprise present a cash flow statement that separately reports cash flows from operating, investing and financing activities. Disclosure of information regarding operating, investing and financing cash flows of each reportable segment is relevant to understanding the enterprise’s overall financial position, liquidity, and cash flows. Disclosure of segment cash flow is, therefore, encouraged, though not required. An enterprise that provides segment cash flow disclosures need not disclose depreciation and amortisation expense and non-cash expenses pursuant to sub-paragraphs (f) and (g) of paragraph 40.

45. 3 के रूप में, कैश फ्लो स्टेटमेंट्स, अनुशंसा करता है कि एक उद्यम एक नकदी प्रवाह विवरण प्रस्तुत करता है जो अलग-अलग नकदी प्रवाह को परिचालन, निवेश और वित्तपोषण गतिविधियों की रिपोर्ट करता है। प्रत्येक रिपोर्ट करने योग्य खंड के नकदी प्रवाह के संचालन, निवेश और वित्तपोषण के संबंध में जानकारी का खुलासा उद्यम की समग्र वित्तीय स्थिति, तरलता और नकदी प्रवाह को समझने के लिए प्रासंगिक है। इसलिए, नकदी प्रवाह का प्रकटीकरण आवश्यक नहीं है, हालांकि, प्रोत्साहित किया जाता है। एक उद्यम जो खंड नकदी प्रवाह प्रकटीकरण प्रदान करता है उसे मूल्यह्रास और परिशोधन व्यय का खुलासा नहीं करना पड़ता है और पैराग्राफ 40 के उप-अनुच्छेदों (एफ) और (जी) के अनुरूप गैर-नकद खर्चों की आवश्यकता होती है।

46. An enterprise should present a reconciliation between the information disclosed for reportable segments and the aggregated information in the enterprise financial statements. In presenting the reconciliation, segment revenue should be reconciled to enterprise revenue; segment result should be reconciled to enterprise net profit or loss; segment assets should be reconciled to enterprise assets; and segment liabilities should be reconciled to enterprise liabilities.

46. ​​एक उद्यम को रिपोर्ट करने योग्य खंडों के लिए प्रकट की गई जानकारी और उद्यम वित्तीय विवरणों में एकत्रित जानकारी के बीच एक सामंजस्य प्रस्तुत करना चाहिए। सुलह पेश करने में, खंड राजस्व को उद्यम राजस्व में समेट दिया जाना चाहिए; खंड के परिणाम को उद्यम को शुद्ध लाभ या हानि में समेटना चाहिए; खंड परिसंपत्तियों को उद्यम परिसंपत्तियों में समेट दिया जाना चाहिए; और खंड देनदारियों को उद्यम देनदारियों में समेट दिया जाना चाहिए।

Secondary Segment Reporting:- 

47. Paragraphs 39-46 identify the disclosure requirements to be applied to each reportable segment based on primary reporting format of an enterprise. Paragraphs 48-51 identify the disclosure requirements to be applied to each reportable segment based on secondary reporting format of an enterprise, as follows:

(a) if primary format of an enterprise is business segments, the required secondary-format disclosures are identified in paragraph 48;

(b) if primary format of an enterprise is geographical segments based on location of assets (where the products of the enterprise are produced or where its service rendering operations are based), the required secondary-format disclosures are identified in paragraphs 49 and 50;

(c) if primary format of an enterprise is geographical segments based on the location of its customers (where its products are sold or services are rendered), the required secondary-format disclosures are identified in paragraphs 49 and 51.

47. पैराग्राफ 39-46 एक उद्यम के प्राथमिक रिपोर्टिंग प्रारूप के आधार पर प्रत्येक रिपोर्ट करने योग्य खंड पर लागू किए जाने वाले प्रकटीकरण आवश्यकताओं की पहचान करते हैं। पैराग्राफ 48-51 एक उद्यम के माध्यमिक रिपोर्टिंग प्रारूप के आधार पर प्रत्येक रिपोर्ट करने योग्य सेगमेंट पर लागू किए जाने वाले प्रकटीकरण आवश्यकताओं की पहचान करता है:

(ए) यदि किसी उद्यम का प्राथमिक प्रारूप व्यावसायिक खंड है, तो आवश्यक ४ format-प्रारूप के खुलासे की पहचान पैरा ४; में की जाती है;

(बी) यदि किसी उद्यम का प्राथमिक प्रारूप संपत्ति के स्थान के आधार पर भौगोलिक खंड है (जहां उद्यम के उत्पाद तैयार किए जाते हैं या जहां इसकी सेवा प्रदान करने वाले संचालन आधारित होते हैं), तो आवश्यक माध्यमिक प्रारूप के खुलासे पैराग्राफ 49 और 50 में पहचाने जाते हैं;

(ग) यदि किसी उद्यम का प्राथमिक प्रारूप उसके ग्राहकों के स्थान (जहाँ उसके उत्पाद बेचे जाते हैं या सेवाएं प्रदान की जाती हैं) के आधार पर भौगोलिक खंड हैं, तो आवश्यक ४ ९ और ५१ अनुच्छेदों में आवश्यक द्वितीयक प्रारूप के खुलासे की पहचान की जाती है।

48. If primary format of an enterprise for reporting segment information is business segments, it should also report the following information:

(a) segment revenue from external customers by geographical area based on the geographical location of its customers, for each geographical segment whose revenue from sales to external customers is 10 per cent or more of enterprise revenue;

(b) the total carrying amount of segment assets by geographical location of assets, for each geographical segment whose segment assets are 10 per cent or more of the total assets of all geographical segments; and

(c) the total cost incurred during the period to acquire segment assets that are expected to be used during more than one period (tangible and intangible fixed assets) by geographical location of assets, for each geographical segment whose segment assets are 10 per cent or more of the total assets of all geographical segments.

48. यदि खंड जानकारी देने के लिए किसी उद्यम का प्राथमिक प्रारूप व्यावसायिक क्षेत्र है, तो उसे निम्नलिखित जानकारी भी देनी चाहिए:

(ए) भौगोलिक ग्राहकों द्वारा अपने ग्राहकों की भौगोलिक स्थिति के आधार पर बाहरी क्षेत्र से खंड का राजस्व, प्रत्येक भौगोलिक खंड के लिए जिसका बिक्री से बाहरी ग्राहकों के लिए राजस्व राजस्व का 10 प्रतिशत या अधिक है;

(बी) प्रत्येक भौगोलिक खंड के लिए संपत्ति की भौगोलिक स्थिति से कुल संपत्ति की कुल राशि, जिनकी खंड की संपत्ति सभी भौगोलिक खंडों की कुल संपत्ति का 10 प्रतिशत या अधिक है; तथा

(ग) खंड की परिसंपत्तियों के अधिग्रहण की अवधि के दौरान होने वाली कुल लागत, जो प्रत्येक भौगोलिक भौगोलिक खंड के लिए संपत्ति की भौगोलिक स्थिति से एक अवधि (मूर्त और अमूर्त अचल संपत्तियों) से अधिक की अवधि के दौरान उपयोग किए जाने की उम्मीद है, जिनकी खंड संपत्ति 10 प्रतिशत या सभी भौगोलिक क्षेत्रों की कुल संपत्ति का अधिक।

49. If primary format of an enterprise for reporting segment information is geographical segments (whether based on location of assets or location of customers), it should also report the following segment information for each business segment whose revenue from sales to external customers is 10 per cent or more of enterprise revenue or whose segment assets are 10 per cent or more of the total assets of all business segments:

(a) segment revenue from external customers;

(b) the total carrying amount of segment assets; and

(c) the total cost incurred during the period to acquire segment assets that are expected to be used during more than one period (tangible and intangible fixed assets).

49. यदि खंड जानकारी की रिपोर्टिंग के लिए किसी उद्यम का प्राथमिक प्रारूप भौगोलिक खंड है (चाहे संपत्ति के स्थान या ग्राहकों के स्थान के आधार पर), तो इसे प्रत्येक व्यवसाय खंड के लिए निम्नलिखित खंड की जानकारी भी देनी चाहिए, जिसका बिक्री से बाहरी ग्राहकों को राजस्व 10 है। उद्यम आय का प्रतिशत या उससे अधिक या जिनकी खंड की संपत्ति सभी व्यवसाय खंडों की कुल संपत्ति का 10 प्रतिशत या उससे अधिक है:

(ए) बाहरी ग्राहकों से खंड राजस्व;

(बी) खंड परिसंपत्तियों की कुल वहन राशि; तथा

(ग) एक से अधिक अवधि (मूर्त और अमूर्त अचल संपत्तियों) के दौरान उपयोग की जाने वाली खंड परिसंपत्तियों का अधिग्रहण करने की अवधि के दौरान होने वाली कुल लागत।

50. If primary format of an enterprise for reporting segment information is geographical segments that are based on location of assets, and if the location of its customers is different from the location of its assets, then the enterprise should also report revenue from sales to external customers for each customer-based geographical segment whose revenue from sales to external customers is 10 per cent or more of enterprise revenue.

50. यदि खंड जानकारी के लिए किसी उद्यम का प्राथमिक प्रारूप भौगोलिक सेगमेंट है जो परिसंपत्तियों के स्थान पर आधारित है, और यदि उसके ग्राहकों का स्थान उसकी परिसंपत्तियों के स्थान से अलग है, तो उद्यम को बिक्री से लेकर बाहरी तक के राजस्व की भी रिपोर्ट करनी चाहिए। प्रत्येक ग्राहक-आधारित भौगोलिक सेगमेंट के लिए ग्राहक जिनकी बिक्री बाहरी ग्राहकों के लिए 10 प्रतिशत या उद्यम राजस्व से अधिक है।

51. If primary format of an enterprise for reporting segment information is geographical segments that are based on location of customers, and if the assets of the enterprise are located in different geographical areas from its customers, then the enterprise should also report the following segment information for each asset-based geographical segment whose revenue from sales to external customers or segment assets are 10 per cent or more of total enterprise amounts:

(a) the total carrying amount of segment assets by geographical location of the assets; and

(b) the total cost incurred during the period to acquire segment assets that are expected to be used during more than one period (tangible and intangible fixed assets) by location of the assets.

51. यदि खंड की जानकारी के लिए किसी उद्यम का प्राथमिक प्रारूप भौगोलिक खंड है जो ग्राहकों के स्थान पर आधारित है, और यदि उद्यम की संपत्ति उसके ग्राहकों से विभिन्न भौगोलिक क्षेत्रों में स्थित है, तो उद्यम को निम्नलिखित खंड की जानकारी भी देनी चाहिए। प्रत्येक परिसंपत्ति-आधारित भौगोलिक सेगमेंट के लिए, जिनकी बिक्री से बाहरी ग्राहकों या सेगमेंट की संपत्ति कुल उद्यम मात्रा का 10 प्रतिशत या उससे अधिक है:

(ए) संपत्ति की भौगोलिक स्थिति से खंड संपत्ति की कुल वहन राशि; तथा

(ख) परिसंपत्तियों के स्थान के अनुसार एक से अधिक अवधि (मूर्त और अमूर्त अचल संपत्तियों) के दौरान उपयोग की जाने वाली खंड परिसंपत्तियों का अधिग्रहण करने की अवधि के दौरान होने वाली कुल लागत।

Segment Accounting Policies:-

33. Segment information should be prepared in conformity with the accounting policies adopted for preparing and presenting the financial statements of the enterprise as a whole.

33. उद्यम के वित्तीय विवरणों को समग्र रूप से तैयार करने और प्रस्तुत करने के लिए अपनाई गई लेखांकन नीतियों के अनुरूप सेगमेंट की जानकारी तैयार की जानी चाहिए।

34. There is a presumption that the accounting policies that the directors and management of an enterprise have chosen to use in preparing the financial statements of the enterprise as a whole are those that the directors and management believe are the most appropriate for external reporting purposes. Since the purpose of segment information is to help users of financial statements better understand and make more informed judgements about the enterprise as a whole, this Standard requires the use, in preparing segment information, of the accounting policies adopted for preparing and presenting the financial statements of the enterprise as a whole. That does not mean, however, that the enterprise accounting policies are to be applied to reportable segments as if the segments were separate stand-alone reporting entities. A detailed calculation done in applying a particular accounting policy at the enterprise-wide level may be allocated to segments if there is a reasonable basis for doing so. Pension calculations, for example, often are done for an enterprise as a whole, but the enterprise-wide figures may be allocated to segments based on salary and demographic data for the segments.

34. एक अनुमान है कि एक उद्यम के निदेशकों और प्रबंधन ने उन लेखांकन नीतियों को चुना है जो उद्यम के वित्तीय विवरणों को एक पूरे के रूप में तैयार करने के लिए उपयोग करने के लिए चुना है, जो कि निर्देशक और प्रबंधन का मानना ​​है कि बाहरी रिपोर्टिंग उद्देश्यों के लिए सबसे उपयुक्त हैं। चूंकि खंड की जानकारी का उद्देश्य वित्तीय विवरणों के उपयोगकर्ताओं को बेहतर तरीके से समझने और उद्यम के बारे में अधिक सूचित निर्णय लेने में मदद करना है, इसलिए इस मानक को वित्तीय विवरणों को तैयार करने और पेश करने के लिए अपनाई गई लेखांकन नीतियों की खंड जानकारी तैयार करने में उपयोग करने की आवश्यकता होती है। एक पूरे के रूप में उद्यम की। हालांकि, इसका मतलब यह नहीं है कि उद्यम लेखांकन नीतियों को रिपोर्टिंग सेगमेंट पर लागू किया जाना चाहिए जैसे कि खंड अलग-अलग स्टैंड-अलोन रिपोर्टिंग इकाइयां थीं। उद्यम-व्यापी स्तर पर एक विशेष लेखांकन नीति को लागू करने में की गई एक विस्तृत गणना को खंडों में आवंटित किया जा सकता है यदि ऐसा करने के लिए उचित आधार हो। पेंशन गणना, उदाहरण के लिए, अक्सर एक पूरे के रूप में एक उद्यम के लिए किया जाता है, लेकिन उद्यम चौड़ा आंकड़ा खंडों के लिए वेतन और जनसांख्यिकीय डेटा के आधार पर आवंटित किया जा सकता है।

35. This Standard does not prohibit the disclosure of additional segment information that is prepared on a basis other than the accounting policies adopted for the enterprise financial statements provided that (a) the information is reported internally to the board of directors and the chief executive officer for purposes of making decisions about allocating resources to the segment and assessing its performance and (b) the basis of measurement for this additional information is clearly described.

35. यह मानक अतिरिक्त वित्तीय जानकारी के प्रकटीकरण पर रोक नहीं लगाता है जो उद्यम वित्तीय विवरणों के लिए अपनाई गई लेखांकन नीतियों के अलावा अन्य आधार पर तैयार की जाती है, बशर्ते कि (क) जानकारी निदेशक मंडल और मुख्य कार्यकारी अधिकारी को आंतरिक रूप से बताई गई हो खंड को संसाधन आवंटित करने और इसके प्रदर्शन का आकलन करने के बारे में निर्णय लेने के प्रयोजनों के लिए और (ख) इस अतिरिक्त जानकारी के लिए माप का आधार स्पष्ट रूप से वर्णित है।

36. Assets and liabilities that relate to two or more clauses jointly if they should be allocated to the clauses, and only if, their respective revenues and expenses are also allocated to those clauses.

36. संपत्तियां और देयताएं जो संयुक्त रूप से दो या दो से अधिक खंडों से संबंधित हैं, यदि उन्हें खंडों के लिए आवंटित किया जाना चाहिए, और केवल अगर, उनके संबंधित राजस्व और व्यय भी उन खंडों को आवंटित किए जाते हैं।

The way in which asset, liability, revenue, and expense items are allocated to segments depends on such factors as the nature of those items, the activities conducted by the segment, and the relative autonomy of that segment. It is not possible or appropriate to specify a single basis of allocation that should be adopted by all enterprises; nor is it appropriate to force allocation of enterprise asset, liability, revenue, and expense items that relate jointly to two or more segments, if the only basis for making those allocations is arbitrary. At the same time, the definitions of segment revenue, segment expense, segment assets, and segment liabilities are interrelated, and the resulting allocations should be consistent. Therefore, jointly used assets and liabilities are allocated to segments if, and only if, their related revenues and expenses also are allocated to those segments. For example, an asset is included in segment assets if, and only if, the related depreciation or amortisation is included in segment expense.

37. जिस तरह से परिसंपत्तियों, देयता, राजस्व और व्यय वस्तुओं को खंडों के लिए आवंटित किया जाता है, उन कारकों की प्रकृति, खंड द्वारा संचालित गतिविधियों और उस खंड की सापेक्ष स्वायत्तता जैसे कारकों पर निर्भर करता है। आवंटन का एक भी आधार निर्दिष्ट करना संभव या उचित नहीं है जिसे सभी उद्यमों द्वारा अपनाया जाना चाहिए; न ही उद्यम परिसंपत्ति, देयता, राजस्व, और व्यय वस्तुओं के आवंटन को बाध्य करना उचित है जो संयुक्त रूप से दो या दो से अधिक खंडों से संबंधित हैं, यदि उन आवंटन को बनाने का एकमात्र आधार मनमाना है। इसी समय, खंड राजस्व, खंड व्यय, खंड संपत्ति, और खंड देनदारियों की परिभाषाएं परस्पर संबंधित हैं, और परिणामस्वरूप आवंटन सुसंगत होना चाहिए। इसलिए, यदि संयुक्त रूप से उपयोग की गई संपत्ति और देनदारियां खंडों को आवंटित की जाती हैं, और केवल अगर, उनके संबंधित राजस्व और व्यय भी उन क्षेत्रों को आवंटित किए जाते हैं। उदाहरण के लिए, एक परिसंपत्ति को खंड परिसंपत्तियों में शामिल किया जाता है यदि, और केवल तभी, संबंधित मूल्यह्रास या परिशोधन को खंड व्यय में शामिल किया जाता है।

Identifying Reportable Segments

Primary and Secondary Segment Reporting Formats

19. The dominant source and nature of risks and returns of an enterprise should govern whether its primary segment reporting format will be business segments or geographical segments. If the risks and returns of an enterprise are affected predominantly by differences in the products and services it produces, its primary format for reporting segment information should be business segments, with secondary information reported geographically. Similarly, if the risks and returns of the enterprise are affected predominantly by the fact that it operates in different countries or other geographical areas, its primary format for reporting segment information should be geographical segments, with secondary information reported for groups of related products and services.

19. एक उद्यम के जोखिमों और रिटर्न के प्रमुख स्रोत और प्रकृति को यह नियंत्रित करना चाहिए कि इसका प्राथमिक खंड रिपोर्टिंग प्रारूप व्यवसाय खंड या भौगोलिक खंड होगा या नहीं। यदि किसी उद्यम के जोखिम और रिटर्न मुख्य रूप से उत्पादित उत्पादों और सेवाओं में अंतर से प्रभावित होते हैं, तो रिपोर्टिंग जानकारी के लिए इसका प्राथमिक प्रारूप व्यावसायिक सेगमेंट होना चाहिए, जिसमें माध्यमिक जानकारी भौगोलिक रूप से रिपोर्ट की जाती है। इसी तरह, अगर उद्यम के जोखिम और रिटर्न मुख्य रूप से इस तथ्य से प्रभावित होते हैं कि यह विभिन्न देशों या अन्य भौगोलिक क्षेत्रों में संचालित होता है, तो खंड की जानकारी रिपोर्टिंग के लिए इसका प्राथमिक प्रारूप भौगोलिक खंड होना चाहिए, संबंधित उत्पादों और सेवाओं के समूहों के लिए माध्यमिक जानकारी के साथ रिपोर्ट किया गया है। ।

20. IntErnal organisation and management structure of an enterprise and its system of internal financial reporting to the board of directors and the chief executive officer should normally be the basis for identifying the predominant source and nature of risks and differing rates of return facing the enterprise and, therefore, for determining which reporting format is primary and which is secondary, except as provided in sub-paragraphs

(a) and (b) below:

(a) if risks and returns of an enterprise are strongly affected both by differences in the products and services it produces and by differences in the geographical areas in which it operates, as evidenced by a ‘matrix approach’ to managing the company and to reporting internally to the board of directors and the chief executive officer, then the enterprise should use business segments as its primary segment reporting format and geographical segments as its secondary reporting format; and

(b) if internal organisational and management structure of an enterprise and its system of internal financial reporting to the board of directors and the chief executive officer are based neither on individual products or services or groups of related products/services nor on geographical areas, the directors and management of the enterprise should determine whether the risks and returns of the enterprise are related more to the products and services it produces or to the geographical areas in which it operates and should, accordingly, choose business segments or geographical segments as the primary segment reporting format of the enterprise, with the other as its secondary reporting format.

20. एक उद्यम के आंतरिक संगठन और प्रबंधन संरचना और निदेशक मंडल के लिए आंतरिक वित्तीय रिपोर्टिंग की इसकी प्रणाली और मुख्य कार्यकारी अधिकारी को आम तौर पर प्रमुख स्रोत और जोखिमों की प्रकृति की पहचान करने और उद्यम का सामना करने वाले रिटर्न की अलग-अलग दरों का आधार होना चाहिए। , इसलिए, यह निर्धारित करने के लिए कि कौन सा रिपोर्टिंग प्रारूप प्राथमिक है और जो उप-अनुच्छेदों में दिए गए को छोड़कर, माध्यमिक है

(ए) और (बी) नीचे:

(ए) यदि किसी उद्यम के जोखिम और रिटर्न दोनों उत्पादों और सेवाओं में अंतर से प्रभावित होते हैं जो इसे पैदा करता है और भौगोलिक क्षेत्रों में अंतर है जिसमें यह संचालित होता है, जैसा कि कंपनी के प्रबंधन और रिपोर्टिंग के लिए एक 'मैट्रिक्स दृष्टिकोण' द्वारा स्पष्ट किया गया है। आंतरिक रूप से निदेशक मंडल और मुख्य कार्यकारी अधिकारी के लिए, फिर उद्यम को व्यवसाय खंडों को अपने प्राथमिक खंड रिपोर्टिंग प्रारूप और भौगोलिक खंडों को अपने माध्यमिक रिपोर्टिंग प्रारूप के रूप में उपयोग करना चाहिए; तथा

(ख) यदि किसी उद्यम की आंतरिक संगठनात्मक और प्रबंधन संरचना और निदेशक मंडल के आंतरिक वित्तीय रिपोर्टिंग की प्रणाली और मुख्य कार्यकारी अधिकारी न तो व्यक्तिगत उत्पादों या सेवाओं या संबंधित उत्पादों / सेवाओं के समूहों पर आधारित हैं और न ही भौगोलिक क्षेत्रों पर आधारित हैं, उद्यम के निदेशकों और प्रबंधन को यह निर्धारित करना चाहिए कि उद्यम के जोखिम और रिटर्न उसके द्वारा उत्पादित भौगोलिक सेवाओं या उन भौगोलिक क्षेत्रों में संबंधित उत्पादों और सेवाओं से अधिक संबंधित हैं, जिनके अनुसार, यह व्यवसाय सेगमेंट या भौगोलिक सेगमेंट का चयन प्राथमिक सेगमेंट के रूप में करना चाहिए। एंटरप्राइज़ का रिपोर्टिंग प्रारूप, इसके द्वितीयक रिपोर्टिंग प्रारूप के रूप में अन्य के साथ।

21. For most enterprises, the predominant source of risks and returns determines how the enterprise is organised and managed. Organisational and management structure of an enterprise and its internal financial reporting system normally provide the best evidence of the predominant source of risks and returns of the enterprise for the purpose of its segment reporting. Therefore, except in rare circumstances, an enterprise will report segment information in its financial statements on the same basis as it reports internally to top management. Its predominant source of risks and returns becomes its primary segment reporting format. Its secondary source of risks and returns becomes its secondary segment reporting format.

21. अधिकांश उद्यमों के लिए, जोखिम और रिटर्न का प्रमुख स्रोत यह निर्धारित करता है कि उद्यम कैसे व्यवस्थित और प्रबंधित किया जाता है। उद्यम की संगठनात्मक और प्रबंधन संरचना और इसकी आंतरिक वित्तीय रिपोर्टिंग प्रणाली आम तौर पर अपने सेगमेंट रिपोर्टिंग के उद्देश्य के लिए उद्यम के जोखिमों और रिटर्न के प्रमुख स्रोत का सबसे अच्छा सबूत प्रदान करती है। इसलिए, दुर्लभ परिस्थितियों को छोड़कर, एक उद्यम अपने वित्तीय वक्तव्यों में खंड की जानकारी उसी आधार पर रिपोर्ट करेगा, जब यह आंतरिक रूप से शीर्ष प्रबंधन को रिपोर्ट करता है। जोखिम और प्रतिफल का इसका प्रमुख स्रोत इसका प्राथमिक खंड रिपोर्टिंग प्रारूप बन जाता है। जोखिम और रिटर्न का इसका द्वितीयक स्रोत इसका द्वितीयक खंड रिपोर्टिंग प्रारूप बन जाता है।

22. A ‘matrix presentation’ — both business segments and geographical segments as primary segment reporting formats with full segment disclosures on each basis — will often provide useful information if risks and returns of an enterprise are strongly affected both by differences in the products and services it produces and by differences in the geographical areas in which it operates. This Standard does not require, but does not prohibit, a ‘matrix presentation’.

22. एक 'मैट्रिक्स प्रस्तुति' - प्रत्येक आधार पर पूर्ण खंड के खुलासे के साथ प्राथमिक सेगमेंट रिपोर्टिंग प्रारूपों के रूप में व्यापार सेगमेंट और भौगोलिक सेगमेंट दोनों - अक्सर उपयोगी जानकारी प्रदान करेंगे यदि किसी उद्यम के जोखिम और रिटर्न उत्पादों और सेवाओं में अंतर से दोनों प्रभावित होते हैं। यह उन भौगोलिक क्षेत्रों में उत्पादन और अंतर के द्वारा होता है जिनमें यह संचालित होता है। इस मानक की आवश्यकता नहीं है, लेकिन प्रतिबंधित नहीं है, 'मैट्रिक्स प्रस्तुति'।

23. In some cases, organisation and internal reporting of an enterprise may have developed along lines unrelated to both the types of products and services it produces, and the geographical areas in which it operates. In such cases, the internally reported segment data will not meet the objective of this Standard. Accordingly, paragraph 20(b) requires the directors and management of the enterprise to determine whether the risks and returns of the enterprise are more product/service driven or geographically driven and to accordingly choose business segments or geographical segments as the primary basis of segment reporting. The objective is to achieve a reasonable degree of comparability with other enterprises, enhance understandability of the resulting information, and meet the needs of investors, creditors, and others for information about product/service-related and geographically- related risks and returns.

23. कुछ मामलों में, किसी उद्यम के संगठन और आंतरिक रिपोर्टिंग का विकास उन दोनों प्रकार के उत्पादों और सेवाओं से असंबंधित लाइनों के साथ हो सकता है जो इसे पैदा करते हैं, और भौगोलिक क्षेत्र जिसमें यह काम करता है। ऐसे मामलों में, आंतरिक रूप से सूचित खंड डेटा इस मानक के उद्देश्य को पूरा नहीं करेगा। तदनुसार, पैराग्राफ 20 (बी) को यह निर्धारित करने के लिए उद्यम के निदेशकों और प्रबंधन की आवश्यकता है कि उद्यम के जोखिम और रिटर्न अधिक उत्पाद / सेवा संचालित या भौगोलिक रूप से संचालित हैं और तदनुसार सेगमेंट रिपोर्टिंग के प्राथमिक आधार के रूप में व्यावसायिक क्षेत्रों या भौगोलिक क्षेत्रों का चयन करें। । उद्देश्य अन्य उद्यमों के साथ तुलना की एक उचित डिग्री प्राप्त करना है, परिणामी जानकारी की समझ को बढ़ाने, और उत्पाद / सेवा से संबंधित और भौगोलिक दृष्टि से संबंधित जोखिम और रिटर्न के बारे में जानकारी के लिए निवेशकों, लेनदारों, और अन्य की जरूरतों को पूरा करना है।